Start Up Stand Up : सोशल मीडिया पर स्वरोजगार से स्वावलंबी बनी स्त्रियाँ

मेकिंग इंडिया साप्ताहिकी मेरे लिए एक प्रयोगशाला है, जिसके माध्यम से मैं अपने अन्दर छुपी रचनात्मकता को हर बार नए रूप में प्रकट करती हूँ. कभी कुछ अच्छा बन जाता है, कभी बिगड़ भी जाता है, लेकिन मेरे लिए यह बिगड़ा हुआ रूप एक सबक होता है अगली बार और अधिक बेहतर करने के लिए.

तो इस नए प्रयोग के अंतर्गत मैंने ऑनलाइन शॉपिंग को व्यवसाय के रूप में छोटे स्तर पर स्टार्ट अप की तरह शुरू किया है, जिसके लिए मैंने कुछ ऑनलाइन शॉपिंग साइट्स से एफ़िलिएशन लिया. जिससे जिन लोगों को कुछ ऐसा ऑनलाइन खरीदना हो जो उनके घर के आसपास या शहर में ना मिलता हो. तो वे लोग मेकिंग इंडिया में माध्यम से उन ऑनलाइन शॉपिंग साइट्स पर जाते हैं, जिससे लाभ का कुछ अंश वेबसाइट को मिलता है.

कुछ व्यक्तिगत मित्र मुझे सीधे बता देते हैं तो मैं उन्हें सीधे लिंक दे देती हूँ. यह मेरे लिए आसान इसलिए रहा क्योंकि मेरा काम ऑनलाइन ही होता है. तो राष्ट्र कल्याण के साथ मैंने वेबसाइट को सुचारू रूप से चलाये रखने के लिए आर्थिक रूप से सक्षम होने के लिए यह उपाय निकाला.

ऐसे ही फेसबुक के माध्यम से मैंने यहाँ बहुत सारे मित्रों को स्वरोजगार शुरू करते देखा है, जिनमें से कुछ मेरी महिला मित्र भी हैं जिन्होंने मेरी ही तरह घर बैठे कुछ व्यवसाय शुरू किया है.

श्रृंगार अपने आप में एक ऐसा सुन्दर शब्द है जो स्वयं ही श्रृंगारित लगता है. यूं तो ईश्वर ने हर वस्तु इतनी सुन्दर और करीने से बनाई है, उस पर रंगों का जादू बिखेरा है और उसे देखने के लिए दृष्टि भी दी है.

लेकिन मानव स्वभाव है कि वह हमेशा और सुन्दर दिखना चाहता है. जिसके लिए वह तरह तरह के आभूषण और वस्त्र पहनता है, चेहरे पर तरह तरह की वस्तु लगता है. और इसमें कोई बुराई भी नहीं. लेकिन सुन्दर दिखने के प्रयास में हम कभी कभी ऐसी वस्तु धारण कर लेते हैं जो सुन्दरता बढ़ाने के बजाय फूहड़ दिखने लगता है.

क्योंकि आधुनिकता की चकाचौंध में हम अपने पारम्परिक परिधानों और आभूषणों के महत्व को भूलते जा रहे हैं. तो ऐसे में मेरी कुछ सखियों ने कुछ श्रृंगार सामग्री खुद बनाई कुछ बाज़ार से जुटाई और फिर शुरू किया अपना व्यवसाय सोशल मीडिया के माध्यम से.

दिव्या शर्मा –
+91 70035 32742


आइये सबसे पहले मिलते हैं श्रीमती दिव्या शर्मा से जो एक गृहणी हैं और जिनके हाथों में ऐसा जादू है कि वे कोई भी गहना बनाती हैं तो उसकी सुन्दरता देखते ही बनती है. वे कहती हैं “मुझे श्रृंगार करना पसंद हैं और फिर मैंने सोचा क्यों न अपने शौक को ही रोजगार बना लिया जाए.”

तो आइये देखते हैं उनके हाथों से बने हुए कुछ गहने जो आपकी सुन्दरता में चार चाँद लगाएगा. इसके अलावा उनका फेसबुक पेज भी है जिस पर वे अपने प्रोडक्ट्स यदि आप उनके Whatsapp ग्रुप से नियमित जुड़ना चाहते हैं तो इस नंबर +91 70035 32742 पर संपर्क कर सकते हैं.

अब आइये मिलते हैं अंजली राय से जो कहती हैं –

सरकारी नौकरी के इंतज़ार में पड़े-पड़े एक दिन मुझे खयाल आया मोदी जी की प्रेरणा से हर वो व्यक्ति जिसे वास्तव में कुछ करना है कर रहा है। आसपास कितने स्टार्टअप दिख रहे तो मैं भी क्यों नही…
बस फिर क्या था शुरू हो गया मेरा स्टार्टअप
“Shop trendy fashion with anjali”
ये कोई सामान्य बुटीक या शॉप नही जहां खरीदारी करने के लिए आपको जाना होगा, ये एक ऑनलाइन शॉप है जो सोशल मीडिया पर संचालित है।
मेरी शॉप पर महिलाओं के सभी प्रकार के कपड़े और एक्सेसरीज मिलेंगी आपको वो भी काफी उचित मूल्य पर।
मेरी शॉप से जुड़ने के लिए आप 7068050757 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

मेरी एक और सखी है सविता भढाना, वैसे तो पेशे से वकील है लेकिन उनका आयुर्वेद में बहुत रुझान है. वो मुझे बहुत सारी टिप्स देती रहती हैं. बातों ही बातों में पता चला कि वे इसे स्वरोजगार के रूप में अपना चुकी है. और राष्ट्रीय स्तर पर लोगों को आयुर्वेदिक प्रोडक्ट्स उपलब्ध करवाती हैं. (संपर्क – +91 98714 90307)

पिछले हफ्ते मेरे दिल्ली प्रवास पर रेलवे स्टेशन पर मिलने आईं और साथ ही बहुत सारे आयुर्वेदिक प्रोडक्ट्स उपहार में दिए. उनकी कंपनी के आयुर्वेदिक प्रोडक्ट्स की वेबसाइट का लिंक दे रही हूँ.

तो बस मुझे इतना कहना है यदि आपमें मेहनत, लगन और रचनात्मकता है तो आप अपनी घर गृहस्थी के साथ अपने शौक को रोजगार बनाकर खुद भी अपने पैरों पर खड़ी हो सकती हैं और साथ ही अपने परिवार की आर्थिक स्थिति को भी मजबूत कर सकती हैं.

  • माँ जीवन शैफाली

बादाम काजल https://amzn.to/2IZSAvC
बादाम का काजल https://amzn.to/2ZW4kEL
Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *