मेकिंग इंडिया

जीवन के सप्त रंग, मेकिंग इंडिया के संग

माँ की रसोई से : नीबू अचार के स्वाद वाला चटपटा नमक

आपने तरह तरह के चाट मसाले खाए होंगे, लेकिन इस नीबू के अचारी नमक का तो मैं दावा कर सकती हूँ कि इसकी रेसिपी और किसी के पास न होगी. मैं इसे पेटेंट करवा लूं उसके पहले आप रेसिपी लिख लीजिये. यह नीबू के मीठे अचार का पाउडर है जिसे,

Read More

बचपन में लौटाएगा आपको यह बर्फ का लड्डू

हम जब छोटे थे तो गर्मियों में बर्फ का लड्डू यानी बर्फ का गोला खरीदकर खूब खाते थे. खूब सारे रंगों वाले अलग अलग स्वाद वाले शरबत को एक ही लड्डू में डलवाकर खूब खाया है. गुलाब का शरबत डलवाने के लिए हम लड्डू को ग्लास में लेते थे और

Read More

गाय से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी

गौ माता जिस जगह खड़ी रहकर आनंदपूर्वक चैन की सांस लेती है । वहां वास्तु दोष समाप्त हो जाते हैं । जिस जगह गौ माता खुशी से रभांने लगे उस जगह देवी देवता पुष्प वर्षा करते हैं । गौ माता के गले में घंटी जरूर बांधे ; गाय के गले

Read More

गौरा गाय : आह मेरा गोपालक देश

गाय के नेत्रों में हिरन के नेत्रों-जैसा विस्मय न होकर आत्मीय विश्वास रहता है। उस पशु को मनुष्य से यातना ही नहीं, निर्मम मृत्यु तक प्राप्त होती है, परंतु उसकी आंखों के विश्वास का स्थान न विस्मय ले पाता है, न आतंक। गौरा मेरी बहिन के घर पली हुई गाय

Read More

विश्व दूध दिवस : तुम्हारा खानपान, ज्ञान विश्व में सर्वश्रेष्ठ था, है, रहेगा

नमस्कार दोस्तो, दो पळवे दूध आज विश्व दूध दिवस 19 साल का हो ही गया। जी हां विश्व दुग्ध दिवस। आपको तो पता ही होगा कि सदियों से देशां म्हं देश हरियाणा जित दूध दही का खाणा लेकिन संयुक्त राष्ट्र खाद्य एवं कृषि संघ को 1 जून 2001 ही पता

Read More

रोटी का जादू

स्वामी ध्यान विनय से मिलने से पहले हमारी कोर्टशिप के दौरान यानी जब हम ई मेल ईमेल खेल रहे थे या फोन फोन खेल रहे थे, तब मैं उनसे अक्सर एक सवाल पूछा करती थी, कि आप काम क्या करते हो? तब उन्होंने कहा था चार सुबह और चार शाम

Read More

MITTI COOL : घर में लाएं मिट्टी के फ्रिज और बीमारियों को करें विदा

पुराने ज़माने से हम मृदा अर्थात मिट्टी के सुराही, घड़ा, कुल्हड़, आदि देखते आ रहे हैं। अब तो बहुत अधिक प्रचलन में शायद नहीं है जब से आधुनिक फ्रिज वगैरह का आविष्कार हुआ है, और यदि प्रचलन में है भी तो या तो गाँवों में या फिर शहरों में फैशन

Read More

प्रकृति स्वयं बैठ चुकी है ड्राइविंग सीट पर

कभी कभी, प्रायः10-15 वर्षों में एक बार, ऐसा होता है कि अरब सागर की आर्द्र हवाएं अरावली के पश्चिम से होकर निकलती हैं। तब ये कराची के ऊपर से होती हुई उत्तर पूर्व की तरफ बढ़ती है और थार के रेगिस्तान में बरसात करते हुए कराची, सक्खर, मुल्तान की तरफ

Read More

गोमय साबुन और शैम्पू : स्वदेशी वस्तु के उपयोग और स्वस्थ जीवन की ओर बढ़ाएं कदम

कहते हैं जब आप में शिष्यत्व भाव प्रबल हो जाता है तो गुरु अपने आप प्रकट होने लगते हैं. मेरी आध्यात्मिक यात्रा में कई गुरुओं का आशीर्वाद व मार्ग दर्शन मुझे प्राप्त हुआ है. ऐसे ही वैद्य राजेश कपूर के दर्शन भी अस्तित्व की योजना अनुसार जादुई रूप से प्राप्त

Read More

Herbowood : चाय पर चर्चा ही नहीं, होता है रोज़गार भी

घूमने निकलते हैं तो विदेशियों से बात करना अच्छा लगता है और बातचीत का विषय उनका खान पान और उनकी रुचियों को लेकर ही होता है। इसी तरह से करीब 3 वर्ष पहले जापानियों से बातचीत हुई तो पता चला कि वे दिन में 15 से 20 कप चाय पीते

Read More
error: Content is protected !!