हे री सखी मंगल गावो री, धरती अम्बर सजावो री, आज उतरेगी पी की सवारी

व्यवस्था चाहे आध्यात्मिक हो या सामाजिक… जब जब व्यवस्था और प्रेम में से किसी एक को चुनने का मौका आया मैंने सारी व्यवस्थाओं को ताक पर रखकर प्रेम को चुना…. ऐसा भी नहीं है कि मैंने व्यवस्था को चुनने का प्रयास नहीं किया, किया लेकिन उसमें हमेशा एक भय व्याप्त … Continue reading हे री सखी मंगल गावो री, धरती अम्बर सजावो री, आज उतरेगी पी की सवारी