मेकिंग इंडिया साप्ताहिकी

जीवन के सप्त रंग, मेकिंग इंडिया के संग
माँ की रसोई से : जाम का जैम

जैसे न्यूटन के सर पर सेब गिरने से उसे ‘गुरुत्वाकर्षण की खोज की’, का तमगा मिला, हालांकि गुरुत्वाकर्षण तो उसकी खोज के पहले ही हमारे ऋषियों द्वारा प्रमाणित था. वैसे ही अल सुबह सिर पर आँगन में लगे जाम के पेड़ से पका जाम मेरे सिर पर गिरने से मुझे एक बेहतरीन आईडिया आया कि ये जो किलो- किलो में रोज़ जाम मेरे सिर पर गिरते हैं और मैं उसे कभी मोहल्ले में बाँट आती हूँ, तो कभी इतने पक जाते हैं कि खाने लायक नहीं बचते तो बाहर गाय को डाल आती हूँ, इन पके जाम यानि अमरूद यानी बिही और अंगरेज़ी में कहे तो ग्वावा की कोई ऐसी चीज़ बनाई जाए जिससे आम के आम और गुठलियों के दाम मिले.

हालांकि बहुत जल्द आम की गुठलियों से भी एक नया उत्पाद बनाने वाली हूँ लेकिन फ़िलहाल हम जाम के जाम और जाम से जैम बनाने की बात करते हैं, जो मेरे सिर पर जाम महाराज के पेड़ से आशीर्वाद स्वरूप गिरा और मैंने सारे पके जाम को पकड़कर जैम बना डाला.

मुझे पता ही नहीं था यह इतना स्वादिष्ट होता है कि बच्चे तो सब्ज़ी भूल ही गए और उसी से रोटी परांठा खा लिया.

आप भी बनाइये बहुत आसान है. ना बने तो मैं हूँ ही, बताइये कितना बनाकर भेजना है.

तो सबसे पहले जितने जाम हैं उतनी ही वज़न में देसी खांड या मिश्री लेना है , और यदि जाम मीठे हैं तो खांड बिलकुल आधी कर देना है. आपको तो पता है चीनी हम न खाते हैं, ना खाने के सलाह देते हैं. और हाँ आपकी खांड भी यदि बहुत मीठी है तो उसकी मात्रा कम कर सकते हैं.

अब सबसे पहले जाम को थोड़ा सा पानी डालकर हल्का सा उबाल लीजिये, इतना कि वह हाथ से मैश हो जाए. फिर उसे ठंडा करके अच्छे से मैश कर लें और उसे एक छलनी से छान लें ताकि छानने पर सिर्फ पल्प और उसका रस बचे और बीज निकल जाएं.

अब जाम के इस पल्प को मोटे तले की लोहे की कड़ाही में पकने के लिए रखें, जब उबाल आने लगे तो शक्कर मिलाकर उसे तब तक पकाएं जब तक जैम जैसी कंसेसटेंसी से थोडा पतला हो क्योंकि यह ठंडा होने पर जम जाता है, अब इसमें थोडा सा नीबू का रस डालें और दो चार मिनट और पकाएं.

लीजिये तैयार है जाम का जैम, ठंडा होने पर इसे कांच की शीशी में भर लें, और महीने भर अमरुद का मज़ा लें.

इसमें थोड़ी सी शक्कर कम करके कालीमिर्च, दालचीनी, काली मिर्च पाउडर, और लाल मिर्च, अदरक जैसी वस्तुएं डालकर सॉस नुमा भी बना सकते हैं.

तो आज ही बनाएं जाम का जैम और सॉस और ना बने तो मुझे इस Whatsapp नंबर पर संपर्क करें, मैं बनाकर दूंगी.

माँ जीवन शैफाली (9109283508)

आंवला कैंडी (शहद में बनी) – 100 gm – 100 rs
आंवला मुरब्बा मिश्री में बना – 100gm – 100 rs
आंवला अचार (कोल्हू से बने सरसों तेल में) – 100 gm – 80 rs
जाम का जैम – 100gm – 80rs
जाम का सॉस – 100gm -80 rs
हर्बल टी – 100 gm – 200 rs
अलसी का मुखवास – 100 gm – 100 rs
चाय मसाला – 100gm – 200 rs
सहजन पत्तियां कैल्शियम के लिए – 50 gm – 100 rs


हर्बल टी – 100 gm – 200 rs
अलसी का मुखवास – 100 gm – 100 rs
चाय मसाला – 100gm – 200 rs
सहजन पत्तियां कैल्शियम के लिए – 50 gm – 100 rs

Facebook Comments

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.

error: Content is protected !!