मेकिंग इंडिया साप्ताहिकी

जीवन के सप्त रंग, मेकिंग इंडिया के संग
पुनीत उपमन्यु का पुनीत कार्य : Garden On Concrete, एक कदम हरियाली की ओर

अपने प्रियजनों को टूटे हुए फूलों के गुलदस्ते देने से बेहतर है कि एक ज़िंदा पौधा उपहार में दें
Learn the art of gardening at GreenShala

Garden On Concrete, एक कदम हरियाली की ओर

दोस्तों, मैं समाज के लिए निःस्वार्थ कार्य करता आ रहा जिसको मैं दर्शाना उचित नहीं समझता. पर अमेरा एक मुख्य उद्देश्य है, प्रकृति की सुंदरता को बनाये रखने लिए खुद को झोंक देना..!!

ग्लेशियर पिघल रहा… पृथ्वी का तापमान बढ़ रहा ..जनसख्या बढ़ रही.. व प्रदूषण भी बढ़ रहा है. आज भले ही शहरीकरण हो रहा पर मुझे पता है कि कुछ समय के पश्चात लोग शहर से गांव की तरफ भागेंगे..

पर्यावरण को बचाना है, इसके लिए अब वक्त आ गया हमें आगे आना होगा. शहरों में आजकल आबोहवा ठीक नहीं. बड़े लोग हर चीज़ का तरीका खोजते हैं, जिसमें खुद का फायदा हो बाकी से मतलब नहीं.

किसी ने गर्मी से बचने के लिए 10 ac लगा लिया, तो किसी ने प्रदूषण से बचने के लिए एक बढ़िया मास्क ले लिया …दिखावापन हर जगह है कोई ac लगवाकर पैसे की ताकत दिखा रहा तो कोई अन्य तरीके से …कोई नाले के पानी से उगी हुई सब्ज़ी, आरओ से धुलकर खुद को सुरक्षित समझ रहा तो कोई सिगरेट न पी कर …पर क्या ये एक समाधान है?

जिस तरह शहरों पर दबाब बढ़ रहा है, जनसख्या बढ़ रही है उससे दुगुनी तेज़ी से वायु प्रदूषण फैल रहा है. इंसान बीमार हो रहा है, उसको बीमारी का कारण पता नहीं, कहीं पानी की दिक्कत हो रही है, तो कहीं गर्मी बढ़ रही है… इसका उपाय क्या है बताइये?

मैं बताता हूँ आजकल शहरों के हर घर की छत खाली रहती है, कोई पैसो के लिए टॉवर लगवा दे रहा है, तो कोई जितना हो सके कमरे बनवाकर पैसे की वसूली कर रहा है. क्या आप उस छत का उपयोग नहीं कर सकते …शुद्ध ऑक्सीजन के लिए…..?

ऑर्गेनिक खेती का चलन है, हम आपकी छत या किसी अन्य जगह का सद्प्रयोग करेंगे. जहां आप शुद्ध सब्जियां उगाकर खा सकते हैं. आजकल मार्किट में सब्ज़ी किस पानी से उत्पादित की जा रही आपको पता है …आपके ही द्वारा waste किया पानी नाली द्वारा नाले में जा रहा और उसी पानी से सब्ज़ियों की सिंचाई की जा रही है. फिर उसी सब्ज़ी को RO के पानी से धोकर खुद को सुरक्षित महसूस करते हों न आप? क्या ये न्याय कर रहे हैं?

हम आपको आपके ही घर में हरी सब्ज़ियाँ उगाकर या सुंदर गार्डन बनाकर दिखाएंगे जिसके लिए माली भी रखेंगे.. आप ac का बिल ही हजारों रुपये दे देते हो… क्यों? ताकि आपको ठंडी हवा मिल सके.. यही काम मेरे साथ मिलकर करिये न… शुद्ध सब्ज़ियाँ, कमरा ठंडा व एक प्राकृतिक माहौल की शांति का आनन्द आप घर बैठे उठाओ…. महज कुछ पैसे देकर….

हम सब ने मिलकर एक शुरुआत की है. अभी सब्ज़ियों का साथ गार्डनिंग व कॉरपोरेट कम्पनियों में प्रकृति को जिंदा रखने के लिए कार्य कर रहे हैं. साथ ही जहां पानी की समस्या है, वहाँ ये पद्धति काफी कारगर है. बुंदेलखंड से वाराणसी, दिल्ली व अन्य शहर के लोग सम्पर्क करें …सरकार ने कुछ अनुदान दिया है…. आप साथ दे सिर्फ छत देने का.. हम वादा करते हैं इस प्रकृति के सौंदर्य को आपके घर मे बसा देंगे..

आइये मिलकर एक कदम बढ़ाएं हरियाली की ओर…

यूपी सहित दिल्ली एनसीआर के मित्र विशेष रूप से ध्यान दे

रोजगार सृजित किया जाता है…!
इसमे क्या आप हमारा सहयोग नहीं करेंगे!

आपको बताते हुए हर्ष हो रहा है कि मैं और मेरे मित्र अभिषेक ने मिलकर यूपी सहित दिल्ली प्रदेश में “Garden On Concrete” नामक कम्पनी का शुभारंभ किया है, जिसमें मेरे मित्र का अथक प्रयास शामिल है… जो अनुभव से लबरेज़ है. इंजीनियरिंग के बाद जॉब छोड़कर अभिषेक इस फील्ड में आये है क्योंकि वो लगभग 16 साल जीवन के खेती को दिए हैं.

जिसके बाद MCIIE IIT BHU की सहायता से उन्होंने बनारस में स्टार्टअप किया ..दो सालों तक MCIIE IIT BHU के तत्वाधान में सफलता पूर्वक कार्य करने के बाद वायु प्रदूषण से ग्रसित दिल्ली का रुख किया है..

हमें बड़ी उम्मीद है कि हमारा ये कार्य सफल होगा सफलतापूर्वक! मित्र ने भरोसा करते हुए दिल्ली एनसीआर का नेतृत्व मुझे सौंपा है… हम बाग – बगीचे से जुड़ी हर तरह की सर्विस उपलब्ध करा रहे हैं.

बाग-बगीचे से जुड़ा कोई कार्य हो हम कर रहे हैं. चाहे किसी होटल, ऑफिस, मॉल, स्कूल किसी भी जगह के लिए इनडोर आउटडोर गार्डन हो या किसी घर की छत या फॉर्महाउस में ऑर्गेनिक सब्जियां उगाना हो… हर तरह की सर्विस हम उपलब्ध करा सकते हैं. यहां तक कि मेंटिनेंस की ज़िम्मेदारी हमारी होगी.

हम अभी कुशल माली भी रख रहे हैं जो पौधों के जानकर हैं. सारा काम आधुनिकता के साथ प्राकृतिक धरोहर को बनाये रखने वाला है. अभी हम सब खुद डोर टू डोर जा रहे हैं, अपने आस-पास ..जहां बातचीत के दौरान हमें कोई प्रोत्साहित कर रहा तो कुछ लोग हतोत्साहित भी… पर हम हार नही मांनेगे…

हम लोगों को महत्व भी बता रहे हैं कि जितना खर्च इधर-उधर कर रहे हैं उससे कहीं कम खर्च में आप ऑक्सीजन उत्सर्जित करिये. गार्डन के साथ ऑर्गेनिक सब्ज़ियाँ छत पर उगाइये….. एक बार भरोसा करिये मेंटिनेंस हम पर छोड़ दीजिए…. यकीन करें आप लोग जितना पैसा मार्केट की सब्ज़ियों में लगाते हैं जो कि अशुद्ध पानी व केमिकल द्वारा उगाई गयी हैं, उससे कहीं कम खर्च में आप एक सुंदर बगीचा या टेरेस गार्डन या किचन गार्डन बना सकते हैं. जिससे ऑर्गेनिक शुद्ध सब्ज़ियाँ आप घर की खाएंगे, साथ ही आपके घर का वातावरण ठंडा रहेगा रहेगा… तनाव से ग्रसित लोगों को बगीचे के पास बैठने से असीम शांति का अनुभव होगा.

अगर घर के बाहर की बात करें तो आप दीवारों पर वर्टिकल गार्डन बना सकते हैं, जिससे घर का तापमान काफी ठंडा रहेगा. ड्रिप सिस्टम से तहत 92% पानी की बचत काफी हो जाती है. माहौल शांतिमय रहता है… खैर जितना हो सकता है हम कर रहे हैं.

ये हमारा बिजनेस तो है ही पर क्या इससे आपका भला नहीं हो रहा? आप अपने स्वास्थ्य के लिये परिवार की सुरक्षा के लिए पॉलिसी कराते हैं, लाइफ इंश्योरेंस, हेल्थ इंश्योरेंस कराते हैं. अनुरोध है अपनी प्रकृति की सुरक्षा के लिए भी कुछ करें..

एक बार का खर्च है महज सालभर की ac के बिल के बराबर.. उसके बाद देखभाल हमारा माली करता रहेगा. कृपया ज़्यादा से ज़्यादा हमारे बारे में लोगों को बताएं. पेज को शेयर करें.. हमें मेल करें कोई मित्र को सर्विस की आवश्यकता हो या कोई प्रोजेक्ट दिलवा सके तो बड़ी कृपा होगी..

हमारा स्टार्टअप है.. ये दिल्ली का नया कल होगा ..आपके शहर का भविष्य होगा. हमारे द्वारा उत्सर्जित कुछ हरियाली का आनंद ले. फोटो के माध्यम से.

Our Service
1-plant store
2-landscaper
3-home delivery
4-Gardener
5-Gardening Training
Fb page @gardenonconcrete- एक कदम हरियाली की ओर
Mail id:- gardenonconcrete@gmail.com
Website:-www.gardenonconcrete.com
फाउंडर :- Avishek kumar
Mob:- 9591816996
सादर:- पुनीत उपमन्यु
(ojhapuneet288@gmail.com) Mob:-8368667423)
Solve the problem of urban pollution by spreading greenery through waste management method.

Facebook Comments

1 thought on “पुनीत उपमन्यु का पुनीत कार्य : Garden On Concrete, एक कदम हरियाली की ओर

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.

error: Content is protected !!