मेकिंग इंडिया

जीवन के सप्त रंग, मेकिंग इंडिया के संग

गोमय साबुन और शैम्पू : स्वदेशी वस्तु के उपयोग और स्वस्थ जीवन की ओर बढ़ाएं कदम

कहते हैं जब आप में शिष्यत्व भाव प्रबल हो जाता है तो गुरु अपने आप प्रकट होने लगते हैं. मेरी आध्यात्मिक यात्रा में कई गुरुओं का आशीर्वाद व मार्ग दर्शन मुझे प्राप्त हुआ है. ऐसे ही वैद्य राजेश कपूर के दर्शन भी अस्तित्व की योजना अनुसार जादुई रूप से प्राप्त

Read More

Herbowood : चाय पर चर्चा ही नहीं, होता है रोज़गार भी

घूमने निकलते हैं तो विदेशियों से बात करना अच्छा लगता है और बातचीत का विषय उनका खान पान और उनकी रुचियों को लेकर ही होता है। इसी तरह से करीब 3 वर्ष पहले जापानियों से बातचीत हुई तो पता चला कि वे दिन में 15 से 20 कप चाय पीते

Read More

पीजिये हल्दीघाटी की पुण्यभूमि पर उपजे चैत्री गुलाब से बना शरबत

हल्दीघाटी की पुण्यभूमि पर उपजे चैत्री गुलाब से बना “वीरधरा” “मधुवारी ” (शर्बत) अब आप लोगो तक पहुंचने के लिए सज्ज है ! यह सुनहरे एवं गहरे गुलाबी वर्ण (रंग) में उपलब्ध है , दोनों का मूल्य एक ही है किंतु उत्पादक एवं मेरा यही मत है कि कृत्रिम रंग

Read More

हाथ से बने सूती सैनेटरी पैड्स : लघु उद्योग का नया सफ़र आप सब के संग

मेरे लिए इससे अधिक प्रसन्नता का विषय नहीं हो सकता कि मेकिंग इंडिया साप्ताहिकी के ‘स्वरोज़गार अंक’ ने कुछ महिलाओं को स्वरोज़गार के लिए प्रेरित किया है. और वे मेरे साथ मिलकर एक ऐसा लघु उद्योग प्रारम्भ करना चाहती हैं, जिसमें शुरुआत में पैसा कम लगे, और एक बार उद्योग

Read More

ग्रामीण महिलाओं में माहवारी और स्वच्छता के प्रति जागरूकता का एक सार्थक प्रयास

नारीवादी स्त्रियों ने सोशल मीडिया पर पीरियड को लेकर तमाशा बनाया हुआ हैं। लेकिन उन्होंने क्या कभी महिलाओं को मासिक धर्म स्वच्छ्ता पर किसी को जागरूक किया है? शायद नहीं। टीवी से लेकर सोशल मीडिया तक पर माहवारी के समय पैड उपयोग करने की बाढ़ आ गयी हैं। लेकिन उस

Read More
error: Content is protected !!