Menu

Tag: Spiritual Relation

मिलन : छठा तत्व

काया विज्ञान कहता है: यह काया पंचतत्वों से मिलकर बनी है- पृथ्वी, जल, वायु, अग्नि और आकाश. लेकिन इन पाँचों तत्वों के बीच इतना गहन आकर्षण क्यों है कि इन्हें मिलना पड़ा? कितने तो भिन्न हैं ये… कितने विपरीत… कहाँ ठहरा हुआ-सा पृथ्वी तत्व, तरंगित होता जल तत्व, प्रवाहमान वायु तत्व, और कहाँ अगोचर आकाश […]

Read More

लक्ष्मी और दुर्गा का ब्रह्माण्डीय नृत्य

संसार में भाषा का आविष्कार करने वाले कौन थे, ये तो मैं नहीं जानती लेकिन इतना मैं यकीन से कह सकती हूँ कि अविष्कार के बाद इसका सबसे अधिक उपयोग और उस पर प्रयोग लड़कियों ने किया होगा… बातें करती हुई लड़कियों को कभी ध्यान से देखा है? उनका सारा संसार उनके संवाद की डोर […]

Read More

चरित्रहीन – 1 : प्रेम, पीड़ा, प्रतीक्षा, परमात्मा

उसे कई बार ऐसा लगता है जैसे वह इस जन्म में जिस किसी से भी मिल रही है, वह पिछले किसी न किसी जन्म का कोई रिश्ता है… यूं तो वह हज़ारों लोगों से मिलती है, लेकिन एक दिन अचानक किसी को देखकर आँखें चमक जाती है. चेतना से कोई लहर उठती है और वह […]

Read More

चरित्रहीन – 3 : तुम्हारा प्रेम बीज है, मेरा प्रेम सुवास

पश्चिम की एक बहुत प्रसिद्ध अभिनेत्री मर्लिन मनरो ने आत्महत्या की, भरी जवानी में! और कारण? कितने प्रेमी उसे उपलब्ध थे! ऐरे-गैरे-नत्थू-खैरों से लेकर अमरीका का राष्ट्रपति कैनेडी तक, सब उसके प्रेमी! तो भी वह प्रेम से वंचित थी। प्रेमियों की भीड़ से थोड़े ही प्रेम मिल जाता है। प्रेम तो एक आत्मीयता का अनुभव […]

Read More

चरित्रहीन – 4 : उड़ियो पंख पसार

और फिर एक दिन… स्वामी ध्यान विनय मुझसे पूछने लगे base camp का अर्थ जानती हो? मैंने कहा आप पूछ रहे हैं तो ज़रूर कोई और ही अर्थ बताने वाले होंगे… बताइये.. जब लोग पर्वतारोहण करने जाते हैं तो अपना सारा सामान नीचे base camp में ही छोड़ जाते हैं बस ज़रूरी सामान लेकर ऊपर […]

Read More

Your Vibe Attracts Your Tribe

वो डोसा हट से बाहर निकली। वॉकर के साथ चल रही थी। बूढ़ी थी। अब बूढ़े होने की कोई परिभाषा तो है नहीं। कोई पचास पर भी बूढ़ा लग सकता है तो कोई सत्तर पर भी जवान। और अगर देह सही चल रही हो, सेहतमंद हो तो दिल तो हमेशा ही जवान महसूस करता है। […]

Read More
error: Content is protected !!