Menu

Tag: Saurabh Shah

रियाज़ की रिकॉर्डिंग्स नहीं होती

सालों पहले की बात है. उस ज़माने में दिनकर जोशी, विट्ठल पंड्या, सारंग बारोट, रजनीकुमार पंड्या से ले कर हरकिशन मेहता, अश्विनी भट्ट, चंद्रकांत बक्शी, सभी समकालीन साहित्यकारों के सभी पुस्तक पढ़ जाता था. उस समय मैं पाठक ज़्यादा और लेखक बेहद कम था. उस समय वरिष्ठ साहित्यकार मोहम्मद मांकड़ (अभी 92 साल के पूर्ण […]

Read More