Me Too : महत्वाकांक्षा की सिद्धि के लिए आरोप-प्रत्यारोप का खेल

ऐसे विषयों पर लिखना आग से खेलने जैसा है, क्योंकि इन मुद्दों पर छान-बीन से पूर्व निष्कर्ष पर पहुँचने का…

Continue Reading →

कुछ सपनों के मर जाने से जीवन नहीं मरा करता है

सुख-साधन-सत्ता के शिखर पर आरूढ़ व्यक्ति भी जब आत्महत्या जैसे घृणित कार्य को अंजाम देता है तो मेरा मन क्षुब्ध…

Continue Reading →

गुड्डी मिली? : किरदार के भीतर और बाहर की दुनिया

जीवन में घटने वाली हर महत्वपूर्ण घटना एक फिल्म के समान होती है जिसकी स्क्रिप्ट नियति द्वारा पहले से लिख…

Continue Reading →