Menu

Tag: Philosophy

आत्ममंथन : जिसे जो बनना होता है वो बनके ही रहता है

“जिसे जो बनना होता है वो बनके ही रहता है…………..” सुबह के सपने की सारी गुत्थियाँ सुलझ जाने के बाद जो आख़िरी वाक्य लेकर मैंने आँखें खोली वह यही था… लगा आज सुबह से पहले जितनी भी सुबहें याद रखे हुए सपनों को लेकर मेरे जीवनकाल में आई वो इसी सुबह का संदेशा लाने की […]

Read More