VIDEO : पिक्चर अभी बाकी है दोस्त

तो पिछले वीडियो में मैंने वादा किया था कि जीवन के एक स्वर्णिम नियम के बारे में बताऊंगी जो मैंने…

Continue Reading →

जीवन है मेरा चुनाव, आपका चुनाव चिह्न क्या है?

कभी कभी उन सारे क्रिया कलापों से छुट्टी लेकर देखिये जिनमें लगातार आपकी उपस्थिति दर्ज होती है. जैसे मैं कभी…

Continue Reading →

तदबीर से बिगड़ी हुई तकदीर बना ले, अपने पे भरोसा है तो एक दांव लगा ले

हौसलों के पंख होते हैं, पैर नहीं। वो जब ठन जाता है, तो कोई आसमान उसकी पकड़ से बच नहीं…

Continue Reading →

ये जो रुख़सार पे तिल सजा रखा है, दौलत-ए-हुस्न पे कातिल बैठा रखा है

मित्रों, सुई की नोक जितना छोटा तिल भी रुख़सार में कशिश डाल देता है। यह बात बताती है कि हमारा…

Continue Reading →

‘पंछी’ से सीखिए आसमान में उड़ने का हुनर और शऊर

दूरदर्शन पर एक सीरियल आया करता था “दादी माँ जागी” … बीस तीस साल तक मूर्छा में रही दादी माँ…

Continue Reading →

127 Hours : जीवन को जीत लाने के लिए ज़रूरी है अब इस हाथ का धड़ से अलग होना

127 Hours… एक अंग्रेज़ी फिल्म है कुछ तीन चार साल पहले देखी थी. यूं तो अंग्रेज़ी फ़िल्में मैंने बहुत कम…

Continue Reading →