Menu

Tag: Ma Jivan Shaifaly

AskAmma : पश्चिम तुम्हें देख अचंभित है, तुम कब झांकोगे अपने मन में पूरब वालों!

कुछ दो तीन वर्षों पहले जिन दिनों मार्क जुकरबर्ग की नीम करोली बाबा से मिलने आने वाली खबर चर्चा में थी, तब मेरे पास एक फेसबुक मित्र का सन्देश आया – वैसे एक बात समझ नहीं आई, स्टीव जॉब्स और फेसबुक वाले मार्क तो नीम करोली बाबा से प्रेरणा ले गए और दुनिया बदल डाली, […]

Read More

नायिका -19 : इतनी मिलती है सूरत से तेरी गज़ल मेरी, लोग मुझको तेरा महबूब समझते होंगे

विनायक – हाँ नायिका!!! है ना कमाल कि ज़िंदा हो!!!! लेकिन ऐसा लग रहा है, हो नहीं!!!! मरनेवाले के लिए कहा जाता है कि भगवान को प्यारा हो गया, गणेश को भी तो भगवान ही मानते है ना?? देखो खजराना जा कर!!!!! नायिका – मर गई नायिका… खजराने वाले गणेशजी, क्या मरने के बाद भी […]

Read More

नाग लोक का रहस्य – 4 : उद्गम और टोटेमवाद

पिछली तीन श्रृंखला मेरे अनुभवों और गुरुओं से प्राप्त ज्ञान का लेखा जोखा है, जो मुझे नाग लोक के रहस्य को जानने के लिए जिज्ञासु बनाते हैं. पिछली श्रृंखला में आध्यात्मिक गुरु श्री एम द्वारा उद्घाटित कई रहस्यमयी घटनाओं को पाठकों ने सिरे से ख़ारिज कर दिया, जो अपेक्षित था. लेकिन जब आप नाग लोक […]

Read More

शिक्षक : स्वयं की ज्योति को अखंड रखकर ही एक दीपक प्रज्जवलित कर सकता है दूसरे दीपक को

एक शिक्षक वास्तव में कभी भी नहीं पढ़ा सकता यदि वह स्वयं आज न पढ़ रहा हो, एक दीपक दूसरे दीपक को कभी भी प्रज्जवलित नहीं कर सकता यदि वह स्वयं अपनी ज्योति को जलती हुई न रखें- रविंद्रनाथ ठाकुर. शिक्षण एक प्रक्रिया है जो आवश्यक नहीं कि कक्षा में ही घटित हो. यह तो […]

Read More

स्वस्थ जीवन, उन्नत चेतना : वज़न और बीमारियों पर नियंत्रण की महत्वपूर्ण जानकारी

यह वीडियो ख़ास उन लोगों के लिए हैं जो खुद या उनके कोई परिचित किसी लम्बी बीमारी से ग्रसित हैं. बाकी यह वीडियो सबके लिए ही उपयोगी है, उनके लिए भी जो जीने के लिए खाते हैं और उनके लिए भी जो यह कहते हैं एक ही तो ज़िंदगी मिली है खाओ पियो ऐश करो […]

Read More

नायिका-18 : मैं मानता नहीं अगले या पिछले जन्म को, ‘जानता’ हूँ!

विनायक – तीनों links पर गया, दो पर comments हैं, इच्छा हो तो देखें, एक अमृत-सागर को पढ़ लिया सागर मंथन कर अमृत की खोज करने के लिये. न, अमर होने की चाह बिलकुल भी नहीं, जल की कोख से तो लिखवा लिया. अब देखते हैं, “धरती की कोख से” किस दिन लिखा पाती हैं. […]

Read More

Masala-E-Magic : जब भगवान को बेचने पड़ते हैं पापड़

आज फिर भगवान मेरे घर पापड़ बेचने आए… पिछली बार आपके पापड़ का टेस्ट उतना अच्छा नहीं था मैंने साइकिल पर पापड़ के थैले लटकाए खड़े, लटके मुंह वाले भगवान से कहा… तो उन्होंने कहा बेटा दे देना वापस पापड़ का वो पैकेट, बदले में ये दूसरा ले लो… ये वाले बहुत अच्छे हैं सच […]

Read More

नाग लोक का रहस्य – 2 : Sri M की नाग लोक के उपनायक से मुलाकात

भाषा की क्लिष्टता का उपयोग अधिकतर वहां किया जाता है जहाँ कहने को कम और प्रदर्शन के लिए अधिक होता है. लेकिन जहां सामान्य मनुष्य को कोई महत्वपूर्ण जानकारी पहुँचाना हो तो भाषा सीधी सरल ही रखी जाती है. और ये किसी पर आक्षेप नहीं, मेरा व्यक्तिगत अनुभव है. जब मुझे अपनी लेखन क्षुधा के […]

Read More

नायिका – 17 : बरगद की चुड़ैल और श्मशान चम्पा

नायिका – मैं बता देती हूँ एक बार और मुझे मोबाइल नंबर नहीं चाहिए… नहीं चाहिए… नहीं चाहिए….. विनायक – किसने कहा कि मैं दे रहा हूँ? देना होगा तो आपकी इजाज़त के बिना भी दे दूँगा, कौन रोक सकेगा मुझे? got it?? now please note it down, its 93001*****…. अर्ररे!!! ये क्या हरक़त है, […]

Read More

नाग लोक का रहस्य – 1

बहुत छोटी थी जब श्रीदेवी की नगीना फिल्म आई थी, और मैं उस फिल्म से इतनी प्रभावित हुई थी कि दर्पण के सामने खड़े होकर दिन भर ‘मैं तेरी दुश्मन, दुश्मन तू मेरा, मैं नागिन तू सपेरा’ पर नृत्य करती रहती थी. श्रीदेवी की भाव भंगिमाओं की हूबहू नक़ल उतारने का प्रयास करती थी. उन […]

Read More
error: Content is protected !!