Menu

Tag: Ma Jivan Shaifaly

कितनी फीकी थी मैं, सिन्दूरी हो जाऊं… ओ सैंया…

जिनके घर कॉलोनी के नहीं, मोहल्लों और गली के नामों से पहचाने जाते हैं वही जान सकते हैं मुम्बई की चाल में रहने वालों का इश्क. इसे पहली बार फिल्म ‘कथा’ में देखा था, पड़ोसी से शक्कर, चाय-पत्ती माँगने के बहाने मिलने जाना भी बहुत रोमांटिक लगता था. कॉलोनी में रहने वालों से हम पड़ोस […]

Read More

प्रस्तुतिकरण का मस्का और ऑनलाइन शॉपिंग का चस्का

एक दिन दोनों बेटे मेरे पास आए – क्या आपके पास नौ हज़ार नौ सौ निन्यानवे रुपये हैं? नहीं, मेरे पास तो नहीं है… मुझे तो ये भी नहीं पता नौ हज़ार नौ सौ निन्यानवे लिखते कैसे हैं… लेकिन आपको क्यों चाहिए है? अरे… चार बार 9 लिखो और नौ हज़ार नौ सौ निन्यानवे रुपये […]

Read More

कायाकल्प संकल्प के जादू से : वज़न कम करने के लिए करें ये आसान उपाय

इस समय यदि सबसे बड़ी कोई समस्या शरीर को लेकर लोगों में है, तो वो है वज़न बढ़ने की समस्या. और बावजूद इसके सबसे बड़ा सपना यदि लोग देख रहे हैं, तो वो है छरहरी काया पाने का सपना. छरहरी काया पाना तो सब चाहते हैं लेकिन बैठे बिठाये. ना उन्हें खाने पीने में परहेज़ […]

Read More
Making India

लेखन का वरदान पाने के लिए आप उसे भोगने के लिए अभिशप्त हैं

पता नहीं आजकल के गीतकार फ़िल्मी गाने कैसे लिखते हैं… एक काल्पनिक सीन पर लिखना मेरे लिए सबसे मुश्किल काम है. मुझे कभी कोई तस्वीर देकर उस पर लिखने के लिए कहता है, कभी कोई कहानी की मांग करता है, या फिर किसी विषय पर लेख लिखने की मजबूरी आ जाती है तो मेरा दिमाग़ […]

Read More