Menu

Tag: Children

बाल साहित्य : चीकू की बुद्धिमानी

नीकू चीकू चंपकवन के बहुत प्यारे खरगोश थे। दोनों एक दूसरे के लंगोटिया यार थे और एक दूसरे पर जान छिड़कते थे। पूरे चंपक वन में वो कभी किसी को अकेले नहीं दिखते थे। जहाँ भी जाते एक दूसरे के गले में हाथ डाले पंहुच जाते। नीकू थोड़ा गंभीर और बेहद सीधा सादा और कुछ […]

Read More

तब आनंद से जीते थे जब खाने के काम आती थीं ब्लैकबेरी और एप्पल जैसी चीज़े

नब्बे के दशक में हम आज की तरह सेलेक्टिव नहीं हुआ करते थे… मतलब कि चीजों को खुद के लिए चुनने के इतने विकल्प नहीं थे. याद कीजिये उन दिनों कितनी बार हम सबके साथ ऐसा होता था कि आप घर से सुबह स्कूल के लिए निकले. स्कूल पहुंचे तो पता चला कि आज तो […]

Read More

Jungle Book : चिकचिक की पढ़ाई आई काम, वर्ना शेरसिंह का होता काम तमाम

कल रात से चंपकवन के राजा शेरसिंह का कुछ अता पता नहीं था। रानी शेरनी ने बताया कि शेरसिंह कल रात को यह देखने निकले थे कि जंगल में सब ठीक ठाक है कि नहीं। लेकिन तब से वे वापस नहीं लौटे। शेरसिंह रोज रात को सोने से पहले जंगल का एक चक्कर जरूर लगाते […]

Read More
error: Content is protected !!