Menu

Tag: Amrita Pritam

मानो या ना मानो : जब ‘शैफाली’ के लिए ओशो ने उठा लिया था चाकू!

25 अप्रेल 2010 की बात है … मैं सुबह सुबह ध्यान करने के बाद बब्बा (ओशो) और एमी माँ (अमृता प्रीतम) के बारे में अपनी डायरी में लिख रही थी – “मेरे अस्तित्व की डोर सदा इन दोनों के हाथ में रही है और आज भी है… ये दोनों मुझे मिलकर संभाले हुए हैं… क्या […]

Read More

मैं और मेरी किताबें अक्सर ये बातें करते हैं : वर्जित बाग़ की गाथा

ये समीक्षा नहीं है, सचमुच समीक्षा नहीं है. समीक्षा तो पुस्तक की होती है, जीवित गाथाओं की नहीं. अच्छा बुरा पहलू तो लिखे हुए हरूफ़ का देखा जाता है, उन हरूफ़ का नहीं, जो रूह बनकर गाथाओं के शरीर में बसते हों. कुछ हर्फ आँखों से गुजरकर चेतना बनकर हमारे अचेतन मन में ज़िंदा रहते […]

Read More

एक थी अमृता : और एक थी सारा

सुबह उठी तो सीने में सारा कुलबुला रही थी… किसी पर चिढ़ रही थी किस पर नहीं जानती… शायद सारा भी नहीं जानती थी. इसलिए अपनी चिढ़ या कहें कुलबुलाहट उसके लफ़्ज़ों में उतर आती. इसलिए सारा की लिखी नज़में किसी स्केल पर नहीं बनती थी. उसको नापने का पैमाना रुके हुए आंसुओं का जमावड़ा […]

Read More

एक थी अमृता : मेरी सेज हाज़िर है, पर जूते-कमीज़ की तरह तू अपना बदन भी उतार दे

आत्ममिलन मेरी सेज हाज़िर है पर जूते और कमीज़ की तरह तू अपना बदन भी उतार दे उधर मूढ़े पर रख दे कोई खास बात नहीं बस अपने अपने देश का रिवाज़ है…… एमी माँ का एक-एक शब्द उनके अनुभवों और अनुभूति की यात्रा है. उस स्तर पर जाकर समझ पाना तो मुमकिन नहीं, जिस […]

Read More
error: Content is protected !!