Menu

Tag: Alka Shrivastava

बाल साहित्य : चीकू की बुद्धिमानी

नीकू चीकू चंपकवन के बहुत प्यारे खरगोश थे। दोनों एक दूसरे के लंगोटिया यार थे और एक दूसरे पर जान छिड़कते थे। पूरे चंपक वन में वो कभी किसी को अकेले नहीं दिखते थे। जहाँ भी जाते एक दूसरे के गले में हाथ डाले पंहुच जाते। नीकू थोड़ा गंभीर और बेहद सीधा सादा और कुछ […]

Read More

किताबों की दुनिया

कवियित्री राजेश जोशी की ‘ब्रह्माण्ड का नृत्य’ संग्रह की कई रचनाओं को पढ़ते हुए मैंने महसूस किया जैसे संवेदनशील लोगों में यह फैलती चली जाएँगी और हर एक तक उसको, उसकी सी बातें कहेंगी. जैसे एक जंगल में भटका हुआ बनमाली जंगली फूलों की लताओं से प्रेम करने लगा हो और लताओं से उसकी होने […]

Read More

Jungle Book : चिकचिक की पढ़ाई आई काम, वर्ना शेरसिंह का होता काम तमाम

कल रात से चंपकवन के राजा शेरसिंह का कुछ अता पता नहीं था। रानी शेरनी ने बताया कि शेरसिंह कल रात को यह देखने निकले थे कि जंगल में सब ठीक ठाक है कि नहीं। लेकिन तब से वे वापस नहीं लौटे। शेरसिंह रोज रात को सोने से पहले जंगल का एक चक्कर जरूर लगाते […]

Read More
error: Content is protected !!