Menu

कागज़ी दस्तावेज : पिया की प्रतीक्षा में घूंघट ओढ़े बैठी रोज़ एक नई दुल्हन हूँ मैं

0 Comments


हर वर्ष जनवरी की पहली तारीख को बच्चों के दादाजी मुझे उपहार स्वरूप नई डायरी देते हैं. कम्प्यूटर की इस ठक-ठक में कलम अक्सर साथ छोड़ देती है. लेकिन उन्होंने कभी डायरी देना नहीं छोड़ा. उन्हें पता है मेरी आत्मा मेरे लिखे गए मृत शब्दों में हमेशा जीवित रहेगी.

डायरी में लिखना अमूमन ना के बराबर होता है अब. लेकिन स्वामी ध्यान विनय हमेशा कहते हैं, इस आभासी दुनिया और आपके मशीनी युग का कोई भरोसा नहीं. आप अपने कागज़ी दस्तावेजों को हमेशा संभालकर रखिये. अंत में वही काम आएँगे.

हुआ भी वही… बहुत सारे लेख पुरानी वेबसाइट के हैक होने से चले गए तो कुछ कम्प्युटर की फाइल्स करप्ट हो जाने से. कुछ फाइल्स के नाम ही याद नहीं और कहाँ सेव की है ये भी याद नहीं.

तो आज सुबह सुबह नई डायरी में कुछ लिखना शुरू किया. एक बही खाता लिखा, कम्प्यूटर पर आई तो लोग उसी बही खाते का ज़िक्र करते हुए मिले. ये जादू अक्सर, अमूमन रोज़ घटित होते देखती हूँ आजकल. मैं जो लिख या सोच रही हूँ चारों तरफ से उसी का ज़िक्र करते हुए शब्द या संकेत मिलते हैं. मैं इसे माया ठगनी की माया कहती हूँ.

जितना उसमें रस लो वो और उलझाती चली जाती है… कई बार समझ नहीं आता महामाया कहना क्या चाहती है, इस माया से मुक्त होने को या उसमें उलझे रहने को. ध्यान बाबा से कुछ पूछो तो वो हर बार मुस्कुरा देते हैं… बिना उलझे बस साक्षी भाव से उलझती जाओ तो अपने आप सुलझ जाओगी.

खैर कभी उलझती, कभी सुलझती जो कुछ भी चलता है उसे शब्द ऊर्जा में परिवर्तित करके आप सबके सामने रख देती हूँ, ये जानते हुए कि मेरी बातों का तारतम्य बहुतों को समझ नहीं आएगा लेकिन कौन सा शब्द किस रूप में किसी के मन के बीज को अंकुरित कर जाता है ये भी तो नहीं पता.

इसलिए कहती हूँ कुछ लोगों के लिए लेखन ही उनका धर्म है. वो भले किसी श्रेणी या स्तर में न आता हो उसकी अपनी एक महत्वपूर्ण भूमिका होती है. बस मैं अपने उसी धर्म का पालन करती हूँ.

कागज़ी दस्तावेज (डायरी में सुरक्षित शब्द)

जीवन में पहली बार कलम कब उठाई ये तो याद नहीं, लेकिन कब कलम का साथ छूटा ये हमेशा यादों के बहीखाते में दर्ज हो गया. उसी बहीखाते से कुछ पुराना हिसाब चुकाने नए भाव गढ़ती हूँ, शब्दों का जाल बुनती हूँ, खुद ही उसमें फंसती हूँ, खुद ही मुक्त होकर नभ में विचरती हूँ.

कोई इसे भटकन कहता है, कोई जीवन चक्र, मैं इसे कहती हूँ तलाश… अपने ‘मैं’ की तलाश. जब जब किसी ‘तुम’ में पीछे कुछ छूट जाता है, उसमें से अपने ‘मैं’ को समेटकर आगे बढ़ने की यात्रा. क्योंकि ये छूटना वो अतिरिक्त भार होता है जो आपकी आगे की यात्रा को बाधित कर रहा होता है.

ये अपने ‘मैं’ से ‘मैं’ तक की यात्रा है जो बहुत सारे ‘तुम’ से होकर मंज़िल का पता दे जाती है.

समय-समय पर जब भी अपने ‘मैं’ में झाँका है, खुद को हमेशा नया पाया है.. एक नई नवेली दुल्हन, अनछुई, पवित्र, प्रेम से भरी हुई… मैं अब रोज़ एक नई दुल्हन हूँ, अपने पिया की प्रतीक्षा में घूंघट ओढ़े बैठी… और पिया का नाम है… “मोक्ष”!

नए शब्द नहीं मिलते
नए अनुभवों के लिए
उन्हीं पुराने शब्दों को
नए अर्थों में ढालकर
एक नई बात मैं कहता हूँ
.
कि इस दुनिया में नया कुछ नहीं है
न आसमान नया है
न ज़मीन ही नई है
.
लेकिन जब कभी
तुम्हें मिल जाए कहीं
मुट्ठी भर पुराना आसमान
तो उड़ जाना
नए पंख लगाकर
गर मिल जाए एक मिट्टी के कण बराबर
भी पुरानी ज़मीन
जहां तुम खुद को
स्वतन्त्र और मुक्त अनुभव करो
तो समा जाना उस कण में
और बन जाना एक बीज…
.
एक बीज जो अंकुरित होकर
कल बन सके एक वटवृक्ष
जिस पर उगे
नए फूल और फल

क्योंकि पुराने से बंधे बंधे
हम थक गए हैं
और इस विराट अस्तित्व से परे नया कुछ नहीं
.
तो आओ हम मर जाएं
एक नए तरीके से
ताकि जन्म ले सकें
नए शरीर में
नए अनुभवों के लिए….

 

 

 

मुक्ति

मैं मुक्ति की आकांक्षा की परिणति हूँ
बूँद भर आँखों में
सागर को उड़ेल देने का स्वप्न,
और गज भर आँचल में
वृहद समाज के लांछनों को ढोने पर भी
उसके छूट जाने का
या फट जाने का संदेह
मुझे विचलित नहीं करता,
न ही रोकता है
मेरे पैरों को
जो शांत श्वासों की थाप पर
नृत्य करते हैं बेसुध हो कर.

मैं मुक्ति की आकांक्षा की परिणति हूँ…..
दो मुट्ठियों में
धरती और आकाश को भींचकर
और नाज़ुक से कंधों पर
संस्कारों में लपेटी परतंत्रता को ढोने पर भी
थक जाने का
या टूट जाने का संदेह
मुझे विचलित नहीं करता
न ही रोकता है
मेरी बाहों को
जो प्रकृति को समेट लेती हैं
जब पैर थिरकते हैं श्वासों की थाप पर.

मैं मुक्ति की आकांक्षा की परिणति हूँ….
जीवन और मृत्य के बिम्बों पर
आनंद के सूक्ष्म कणों को टिकाकर
और आत्मा की मिट्टी पर
देह के ऊग आने पर भी
पलीत नहीं होती
ना ही पतित होती है,
जहां सारे संदेहों को द्वार मिलता है
समाधान का,
जहां से सारे द्वार खुलते हैं
मुक्ति के……

– माँ जीवन शैफाली

Facebook Comments
Tags: , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *