Menu

मानो या ना मानो : यात्रा एक तांत्रिक मंदिर की

0 Comments


चौथे दिन मैं भैरव पहाड़ी पर पहुंचा तो कोहरा-सा छाया हुआ था, पर कुछ ही समय बाद कोहरा छंट गया और प्रखर धूप निकल आई. यह मेरे लिए शुभ संकेत था. भैरव पहाड़ी की चढ़ाई अत्यंत कठिन और श्रम-साध्य है. लगभग पांच घंटे की जी-तोड़ चढ़ाई के बाद ही मैं ऊपर पहुँच सका.

सामने ही छोटा-सा भैरव मंदिर है, जिसमें भैरव की प्राचीनतम प्रतिमा स्थापित है. उसके आगे पहाड़ी पर ही बड़ा-सा मैदान है, जहां से चारों तरफ का प्राकृतिक दृश्य अत्यंत ही मनोहर और रमणीक है. एक तरफ ऊपर से झरना-सा आता है, जिससे वहां का कुण्ड हमेशा ताजे पानी से लबालब भरा रहता है, इसके पास ही गर्म पानी का भी कुण्ड है, जिसमें से भाप निकलती रहती है. कहते हैं कि चावल की पोटली बनाकर इस गर्म पानी में लटका दी जाय तो दो मिनट बाद ही चावल सिक जाते हैं.

मुझे कहीं पर भी त्रिजटा दिखाई नहीं दिए. मैंने भैरव मंदिर की परिक्रमा भी की. मंदिर के बगल में ही गुफा है. संभवत: वही त्रिजटा का आवास हो. इसके पीछे पंद्रह-बीस और भी छोटी-छोटी गुफाएं दिखाई दीं, जो सुन्दर और सुरम्य थीं, ऐसा लग रहा था कि इन गुफाओं में भी कोई है, जो कि साधनारत है.

मैं घूमकर भैरव मंदिर के सामने आ गया और भैरव की स्तुति कर एक तरफ बैठ गया. अब तक मैं स्वस्थ हो गया था. गर्म सोते में हाथ-पैर-मुंह धोने से मेरी सारी थकावट दूर हो गयी थी.

अकस्मात् एक तरफ हलचल दिखाई दी. पहले दौड़ते हुए दो-तीन शिष्य ऊपर आये, जैसे कि वे हांफ रहे हों और उनके पीछे ही एक उच्च कोटि का भव्य व्यक्तित्व प्रकट हुआ. लंबा चौड़ा ऊंचा कद, लम्बी जटाएं जो कि कमर तक लटकी हुई थीं, बड़ा सा दिप-दिप करता हुआ चेहरा, जिस पर लाल-सुर्ख बड़ी-बड़ी दो आँखें, विशाल स्कंध, लम्बी-बलिष्ट भुजाएं और चौड़ा रोम मिश्रित सीना.

अपना दाहिना हाथ मेरी पीठ पर लगा दिया. मैं अपने आप को काफी हृष्ट-पुष्ट समझता हूँ, परन्तु मुझे ऐसा लग रहा था कि उसकी हथेली ने मेरी पूरी पीठ को घेर रखा हो. वे बोले– “तुम आ गए? मुझे तुम्हारे आने का संकेत मिल चुका था” मैं थोड़ा आश्वस्त हुआ. मैंने उन्हें अपना नाम बताया और संक्षेप में जानकारी दी कि अब तक मैं कौन कौन सी विद्याएँ सीख चुका हूँ.

जब मैंने उन्हें जानकारी दी कि मेरे गुरुदेव पूज्य श्रीमाली जी हैं और उन्हीं से मैंने तीन वर्ष तक यह थोड़ा बहुत ज्ञान प्राप्त किया है, तो उसका चेहरा प्रसन्नता के मारे खिल उठा. प्रसन्नता के आवेग में उसने दाहिने हाथ से मुझे ऊपर उठा लिया. उसकी हथेली में मैं गेंद की तरह लटका हुआ था. दूसरे ही क्षण उसने धीरे से मुझे ज़मीन पर खड़ा किया और अपने सीने से भींचकर मेरे सर पर करुणा पूरित हाथ फेरा, तो मुझे लगा कि इस कठोर और भयानक व्यक्तित्व के पीछे करुणामय ह्रदय है और उसमें दया, स्नेह, प्रेम तथा मधुरता का सागर लहलहा रहा है.

– उपरोक्त अंश डॉ. नारायणदत्त श्रीमाली की पुस्तक “तंत्र: गोपनीय रहस्यमय सिद्धियाँ ” से लिया गया है.

घर से निकलने से पहले मुझे सिर्फ इतना पता था कि मैं बाजना मठ जा रही हूँ जहां भैरव बाबा का मंदिर है, जिसे आध्यात्मिक रूप से बहुत ऊर्जावान क्षेत्र माना जाता है. मंदिर की सीढ़ियाँ चढ़ते हुए मैं इस अपेक्षा के साथ जा रही थी कि उस क्षेत्र में प्रवेश करने पर मैं किसी तरह की विशेष ऊर्जा अनुभव करूंगी…

सीढ़ियाँ चढ़ते हुए जब मैं मंदिर के द्वार पर पहुँचने ही वाली थी कि एक दाढीवाले व्यक्ति को सीढ़ियाँ उतरते देखा… कम से कम चार पांच सीढ़ियाँ चढ़ते हुए उनकी नज़रें मेरी नज़रं से जुड़ी रही… गहरी लाल बड़ी बड़ी आँखें… मेरे देखने का कारण यह था कि अक्सर मुझे ऐसी विशेष जगह पर इसी रूप रंग वाला एक शख्स ज़रूर मिलता है. ऐसे ही एक दाढ़ी वाले व्यक्ति मुझे श्री एम के जबलपुर आगमन पर मानस भवन में उनके कार्यक्रम में मिले थे. ऐसी ही दाढ़ी, बड़ी बड़ी आँखें, मेरे बाजू में बैठे अपने मोबाइल पर कुछ करते हुए पूरे टाइम मुस्कुराते रहे… मैं उनको देखती रही और पहचान ने की कोशिश करती रही कौन है ये… कहाँ देखा है… इतना जाना पहचाना चेहरा….

एक तो सामने श्री एम और बाजू में ये रहस्यमय व्यक्ति, मुझे समझ नहीं आ रहा था… कहाँ अपना ध्यान लगाऊँ… मेरा ध्यान पूरे समय श्री एम की ओर था… फिर वो बाजू में बैठे दाढ़ी वाले व्यक्ति कब और कहाँ चले गए मुझे पता नहीं चला, बस वहां के लिए हुए फोटो में उनकी एक धुंधली सी तस्वीर आ सकी.

बस ऐसे ही बाजना मठ की सीढ़ियाँ चढ़ते हुए ये मिले, मैं सिर्फ इसलिए देखती रही क्योंकि मुझे फिर वही भाव आ रहा था कि मैं इन्हें बहुत अच्छे से जानती हूँ… उनकी तरफ क्या चल रहा था मैं नहीं जानती क्योंकि मुझे देखने के बाद वो सीढ़ियाँ उतरना छोड़ दोबारा मंदिर की सीढ़ियाँ चढ़ने लगे और मुझसे पहले मंदिर के द्वार पर लगी ऊंची घंटियाँ बजाने की कोशिश करने लगे और फिर घंटी बजाने के बाद मंदिर के अन्दर जाने के बजाय दोबारा सीढ़ियाँ उतरने लगे लेकिन उतरने से पहले उन्होंने मेरे हाथ में प्रसाद दिया…

मुझे लगा घंटी बजाते समय शायद उनके हाथ में प्रसाद नहीं था.. मैंने हाथ में प्रसाद लिया, और दो मिनट उसे देखती रही… वो दाढ़ी वाले व्यक्ति तब तक सीढ़ियाँ उतर कर जाने लगे मैंने पलटकर देखा लेकिन इसबार वो नहीं पलटे … प्रसाद देखते हुए मुझे स्वामी ध्यान विनय की बात याद आई कि घर के बाहर कुछ खाना नहीं है, और किसी का दिया हुआ तो बिलकुल नहीं… मैं असमंजस में थी क्या करूं, प्रसाद ही तो है, फिर मैंने पता नहीं क्यों उसे मंदिर के प्रांगण में जल रहे हवन कुण्ड में डाल दिया…

उपरोक्त दोनों किस्से बताने के पीछे उद्देश्य बस यही है कि जीवन में ऐसा बहुत कुछ है जो हमारे सामने ही घटित होता है और हमें दिखाई नहीं देता. हमारी दिखाई देने वाली दुनिया के अलावा भी एक दुनिया और है, सिर्फ तांत्रिकों की दुनिया की बात नहीं कर रही.

तंत्र का अर्थ होता है सिस्टम, और इस सिस्टम को संचालित करने के लिए लगाए गए लोग जिनके आदेशों पर काम करते हैं उनका इस सिस्टम को कार्यरत रखने के पीछे क्या उद्देश्य हैं, ये रहस्यमयी दुनिया कौन सी है… और सबसे बड़ी बात यह सब बातें मुझे इतना आकर्षित क्यों करती है? क्यों मुझे बार बार यह अनुभव होता है कि मैं इसी सिस्टम का हिस्सा हूँ लेकिन अपनी ही भूमिका से अनजान… यह सबकुछ मेरे लिए अब भी उतना ही रहस्यमय है.

खैर मंदिर के अन्दर मुझे कुछ ख़ास अनुभव नहीं हुआ, लगा बस जाना पहचाना सा वातावरण है… जिसकी मुझे आदत सी है… तब तक मैं नहीं जानती थी बाजना मठ में बने इस मंदिर को तांत्रिक मठ भी कहते हैं, ये मुझे मंदिर से बाहर निकल थोड़ी ऊंचाई पर जाने पर पता चला जब मैंने मंदिर के गुम्बज पर लिखा पाया “तांत्रिक मठ”…

तांत्रिक मठ है, भैरों का मंदिर है तो माँ काली भी आसपास ही होना चाहिए मुझे इसका अनुमान हुआ जो आगे जाकर सही साबित हुआ…
घर आकर सबसे पहले इस तांत्रिक मठ के बारे में गूगल पर खोज की तो पता चला… यह देश का दुर्लभ तांत्रिक मंदिर है.

सिद्ध तांत्रिकों के मतानुसार यह ऐसा तांत्रिक मंदिर है जिसकी हर ईंट शुभ नक्षत्र में मंत्रों द्वारा सिद्ध करके जमाई गई है. ऐसे मंदिर पूरे देश में कुल तीन हैं, जिनमें एक बाजनामठ (जबलपुर शहर से करीब 8 किमी की दूरी पर मेडीकल कालेज से, तिलवारा घाट रोड पर स्तिथ है) तथा दो काशी और महोबा में हैं. बाजनामठ का निर्माण 1520 ईस्वी में राजा संग्राम शाह द्वारा बटुक भैरव मंदिर के नाम से कराया गया था. इस मठ के गुंबद से त्रिशूल से निकलने वाली प्राकृतिक ध्वनि-तरंगों से शक्ति जागृत होती है.

कुछ कथानकों के अनुसार यह मठ ईसा पूर्व का स्थापित माना जाता है. आद्य शंकराचार्य के भ्रमण के समय उस युग के प्रचण्ड तांत्रिक अघोरी भैरवनंद का नाम अलौकिक सिद्धि प्राप्त तांत्रिक योगी के रूप में मिलता है.

तंत्र शास्त्र के अनुसार भैरव को जागृत करने के लिए उनका आह्वान तथा स्थापना नौ मुण्डों के आसन पर ही की जाती है. जिसमें सिंह, श्वान, शूकर, भैंस और चार मानव-ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र इस प्रकार नौ प्राणियों की बली चढ़ाई जाती है. किंतु भैरवनंद के लिए दो बलि शेष रह गई थी.

बाजनामठ को लेकर एक जनश्रुति यह है कि एक तांत्रिक ने राजा संग्राम शाह की बलि चढ़ाने के लिए उन्हें बाजनामठ ले जाकर पूजा विधान किया. राजा से भैरव मूर्ति की परिक्रमा कर साष्टांग प्रणाम करने को कहा, राजा को संदेह हुआ और उन्होंने तांत्रिक से कहा कि वह पहले प्रणाम का तरीका बताए. तांत्रिक ने जैसे ही साष्टांग का आसन किया, राजा ने तुरंत उसका सिर काटकर बलि चढ़ा दी. मार्गशीष महीने में कृष्ण पक्ष की अष्टमी को भैरव जयंती मनाई जाती है. यह दिन तांत्रिकों के लिए महत्वपूर्ण होता है. जबलपुर वैसे भी तांत्रिक क्रियाओं का गढ़ कहा जाता है.

बाजना मठ का वर्णन इसलिए नहीं किया कि पहाड़ और तालाब से घिरे मनोरम स्थान से बने बाजना मठ सबको घूमना चाहिए. इसका वर्णन इसलिए किया है कि कुछ जगह ऊर्जा के वह केंद्र होते हैं जहां आम इंसान को जाकर उसे दूषित नहीं करना चाहिए. इस तंत्र (system) के लिए जिन्हें नियुक्त किया गया है जिसकी वजह से इस रहस्यमयी दुनिया का रहस्य कायम है, उसका संचालन कायम है ये उन्हीं के लिए संरक्षित होना चाहिए…

मेरा जाना कदाचित उसी योजना का हिस्सा था… प्रत्यक्ष रूप से मुझमें कोई परिवर्तन नहीं आया हो सकता है लेकिन अप्रत्यक्ष रूप से उसने वैसे ही काम किया जैसे नींद में जाने के बाद आपकी आत्मा पर इन शक्तियों के द्वारा काम होते हैं.

और मेरा अनुमान सही निकला उसके अगले ही महीने से मेरे जीवन में आमूलचूल परिवर्तन प्रारम्भ हुआ… मुझ पर कई आध्यात्मिक प्रयोग हुए, पिछले जन्म के कार्मिक हिसाब बराबर किये गए, ईर्ष्या, भय, पीड़ा पर मंथन कर प्रेम का अमृत निकाला गया.

कहते हैं यदि आपको अपने पूर्व जन्म के किसी संस्कार या कर्म से मुक्त होना हो तो उसे अपने पूरे भीष्ण स्वरूप के साथ जीना पड़ता है, तब वह आपके अवचेतन मन से सतह पर आता है और फिर आप उससे मुक्त हो जाते हैं.

ऐसे ही धीरे धीरे अपने पिछले कई जन्मों के कर्मों से मुक्ति के लिए मुझे चुना गया, यह चुना जाना बहुत कम लोगों के सौभाग्य में होता है, क्योंकि इतना कष्ट सहने का सामर्थ्य हर किसी में नहीं होता. मैं इन कष्टों से गुज़र सकी क्योंकि स्वामी ध्यान विनय ने किसी भी परिस्थिति में मेरा हाथ नहीं छोड़ा. छोड़ते भी कैसे प्रयोग भी तो उनके ही माध्यम से हो रहे थे. और उनके अनुसार यह सब मुझे मोक्ष तक पहुंचाने के लिए किया जा रहा है क्योंकि यह मेरा अंतिम जन्म है. जिसकी बाद में मेरी कुण्डली देखते हुए ज्योतिषाचार्य राहुल सिंह राठौड़ ने भी पुष्टि की कि अब आप पर बहुत जल्दी बहुत सारे प्रयोग होंगे, अधिक से अधिक लोगों से जीवन में जल्दी जल्दी मिलना होगा क्योंकि यह आपका अंतिम जन्म है.

लगभग एक वर्ष इस पीड़ा से गुज़रने के बाद जब एक दिन मैंने खुद को दर्पण में देखा तो मैं पूरी तरह बदल चुकी थी… सिर्फ चेतना स्तर पर ही नहीं, दैहिक स्तर पर भी मुझमें पूरी तरह से बदलाव आ चुका था. मेरा चेहरा पूरी तरह से बदल चुका था, मैं खुदको ही नहीं पहचान पा रही थी. मैं आज भी खुद को दर्पण में देखती हूँ तो अचम्भित होती हूँ… लगता है मेरी उम्र बीस वर्ष कम हो गयी है.

मुझे ध्यान के माध्यम से जीवन ऊर्जा के नए आयामों का अनुभव करवाया गया, और यह प्रक्रिया अब भी जारी है. इसलिए जब भी आप किसी प्राचीन मंदिर जाएं तो कुछ मांगिये नहीं, खुद को इतना मुक्त और सहज सरल कर दीजिये कि अस्तित्व को आप पर कार्य करने में, ऊर्जा के प्रवाह में कोई बाधा न आए. योगियों ने साक्षी भाव से जीना इसे ही कहा है.

बाजना मठ के आगे ही चौंसठ योगिनी मंदिर है. वहां भी जाना हुआ उस दिन, अगली बार उसके बारे में जानकारियाँ दूंगी.

– माँ जीवन शैफाली

मानो या ना मानो – 2 : हनुमान दर्शन

Facebook Comments
Tags: , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!