जीवन, अध्यात्म का प्रकट रूप और अध्यात्म, जीवन का अप्रकट विस्तार

ये जादू मेरे साथ अक्सर घटित होता है, किसी तस्वीर पर एकदम से दिल आ जाता है तो लगता है इस पर कुछ लिख डालूँ, या काश कोई इस पर कुछ लिख दे. या कई बार कोई विचार या वन लाइनर-सा दिमाग में कुछ कौंधता है, तो लगता है काश बस ऐसा कोई चित्र मिल … Continue reading जीवन, अध्यात्म का प्रकट रूप और अध्यात्म, जीवन का अप्रकट विस्तार