नायिका – 6 : न आया माना हमें cheques पर हस्ताक्षर करना, बड़ी कारीगरी से हम दिलों पर नाम लिखते हैं

पिछले भाग में आपने पढ़ा कि एक महीने के अंतराल के बाद नायिका नायक के ईमेल का जवाब भेजती है,…

Continue Reading →

तुलसी कल्याणं : देव जागो कि मुझे ब्याह रचाना है…

कथाएँ चाहे काल्पनिक हो, उसके पीछे के सन्देश काल्पनिक नहीं होते. धर्म पथ पर चलने के लिए देवताओं तक को…

Continue Reading →

मैं और मेरी किताबें अक्सर ये बातें करते हैं : हस्या ई कंजर

नामचीन उपन्यासकार और पॉकेट बुक्स के शहंशाह सुरेन्द्र मोहन पाठक की जब मैं नई-नई पाठिका बनी थी तब उन्हें एक…

Continue Reading →

ME TOO अभियान और यौनेच्छा समर्थक त्रिअंकीय धाराएँ

समय महाभारत काल स्थान – कुरुक्षेत्र के आस पास बलराम से द्रौपदी ने पूछा – देव, मनुष्य की सबसे बड़ी…

Continue Reading →