Menu

Category: March (First) 2019

पंचगव्य और आयुर्वेद के ज्ञाता ऋषि तुल्य वैद्य राजेश कपूर से मुलाक़ात

“अब तो चाय बिना शक्कर और बिना दूध वाली पीता हूँ”, मेरे इस कथन पर लोगों की अब तक प्रशंसात्मक या विस्मयपूर्ण प्रतिक्रियाएं ही मिली हैं. पर वो गुरु ही क्या जो चोट न करे! उन्होंने छूटते ही कहा कि इस पेय में चाय पत्ती तो है… नहीं पीना चाहिए. मेरे प्रतिवाद पर उन्होंने दो […]

Read More

ये पूरा संसार ही नादात्मक है

स्वामी ध्यान विनय के साथ कोई गीत सुनना दोगुना आनंद देता है. गीत के अनुभव के साथ, गीत की ताल पर उनकी ऊंगलियों की थाप और उनका गीत से अधिक उसके संगीत के साथ एकाकार हो जाना. फिर चाहे उनके सामने टेबल हो या खाली मटका. उनकी लहराती ऊंगलियों के साथ उनके चेहरे पर आये […]

Read More

वैद्य राजेश कपूर से जानिये किस दिन क्या खाना और करना वर्जित है

आचार्य राजेश कपूर से जानिये पंद्रह दिन के चौदह नियम – 1. प्रतिपदा – कूष्मांड पेठा और कद्दू खाना वर्जित है. 2. दूज – बृहती (छोटा बैंगन) खाना वर्जित है. 3. तृतीया – परवल खाने से शत्रु वृद्धि होती है. 4. चतुर्थी- मूली खाने से धन का नाश होता है. 5. पंचमी – बेल खाना […]

Read More

नायिका -21 : खींचे मुझे कोई डोर तेरी ओर…

आज शाम आपसे बात करने के बाद मन इतना भारी हो गया कि कुछ सूझे ही न कि क्या करूं। सिस्टम भांजे ने ले लिया, नहीं तो ब्लॉग पर ही कुछ करता, इधर उधर डोलता रहा। फिर उनका भला हो, 4 आ गये, उनका समाधान किया, पर फिर ऊपर अपने रूम में जा कर पढ़ने […]

Read More

नाग लोक का रहस्य – 6 : पुराण में नागों का उल्लेख

नागों की उत्पत्ति का रहस्य अंधकार में डूबा है, इसलिए प्राचीन भारत के इतिहास की जटिल समस्याओं में से एक ये भी समस्या है. कुछ विद्वानों के अनुसार नाग मूलरूप से नाग की पूजा करनेवाले थे, इस कारण उनका संप्रदाय बाद में नाग के नाम से ही जाना जाने लगा. इसके समर्थन में James Fergusson […]

Read More
error: Content is protected !!