Menu

Category: March 2019

मुझे बरबाद करने की फ़िराक में ये आदमी

ज़िंदगी में पहली बार काम-धाम के बारे में तब सोचा, जब बड़े राजकुमार चिरंजीव ज्योतिर्मय जी के हमारे घर आने के संकेत मिले…. सोचा और सफलतापूर्वक शुरू हो गया… पर अब एक आदमी मुझे बरबाद करने की फ़िराक में है…. फिर छोटे राजकुमार चिरंजीव गीत के आने से पहले, परिवार बढ़ने की आहट पा, ज़िंदगी […]

Read More

अर्जुन – 2 : गुनाहों का देवता है हर पात्र

यार एक बात बताओ तुम मुझे परफेक्ट बनाना चाहते हो या कम्पलीट? अर्जुन भौचक्का-सा उसकी तरफ देखता रह गया. उसने कभी उससे इस तरह से बात नहीं की थी. अर्जुन ने एक पल को खुद को संभालते हुए सोचा जब पात्र बड़ा होने लगे तो उससे दोस्ती कर लेना ही उचित है. उसने ज्ञानी मुद्रा […]

Read More

केले के पत्तों से पाएं स्वस्थ शरीर, घने बाल, सुन्दर त्वचा और बीमारियों से मुक्ति

जब से वैद्य राजेश कपूर का आशीर्वाद मिला है, मैं अधिक से अधिक प्रकृति के समीप रहने लगी हूँ, और उसके संकेतों के प्रति ग्रहणशीलता बढ़ी हुई सी अनुभव हो रही है। अब जब घर के बाहर निकलती हूँ तो नज़रें किसी न किसी उपयोगी वृक्ष और गायों के झुण्ड पर लगी रहती है। ऐसे […]

Read More

Period : End of Sentence : तन ढंकने वाले कपड़ों पर मज़हबी दखलअंदाज़ी

ईरान जानते हैं? मिडिल ईस्ट का दूसरा सबसे बड़ा देश। मुस्लिम बहुल जनसंख्या वाला मुल्क है। कुछ महीनों पहले वहाँ पर #چالش_آتش_زدن_قرآن काफ़ी trend हुआ था। जिसका मतलब है – Burn The Qur’an Challenge! इसकी वजह ये कि इस्लामिक क्रांति के बाद से ही वहाँ पर सभी महिलाओं के लिए सार्वजनिक स्थानों पर हिजाब पहनना […]

Read More

अर्जुन -1 : प्रस्तावना, सार्त्र से पात्र तक

एक क्रांतिकारी, अद्भुत, जैसा कभी ना लिखा गया हो ऐसा उपन्यास रचने का सपना अर्जुन को चेतना के उस तल तक ले जा रहा था, जहां की एक झलक मात्र उसके हाथ से कलम छुड़ा देती थी… उसने जाना था कि यदि वह सबसे गहरे तल पर जाकर कुछ लिखने का प्रयास करेगा तो कभी […]

Read More

Success Story : सबकी पसंद ‘निरमा’

साठ के दशक में गुजरात सरकार के भू विज्ञान विभाग की लैब में एक 24 साल का युवक काम करता था… पारिवारिक पृष्ठभूमि बेहद साधारण… लेकिन उसे सरकारी नौकरी कभी रास नहीं आई…. वो एक लैब असिस्टेंट था…. लेकिन उसका दिमाग हमेशा कुछ अलग करने को बेताब रहता था. उन दिनों भारतीय उद्योग जगत के […]

Read More

डाई से बाल ख़राब करना छोड़िये, घर पर बनाइये मेहंदी से प्राकृतिक डाई

श्रृंगार की बात हो और बालों का ज़िक्र न हो ऐसा हो ही नहीं सकता. लेकिन बढ़ते प्रदूषण, अस्त व्यस्त खान-पान और दिनचर्या के चलते बालों की गुणवत्ता धीरे धीरे ख़त्म होती जा रही है. सब जगह एक ही समस्या है, बालों में रूसी, समय से पहले सफ़ेद हो जाना और बालों का झड़ना. आज […]

Read More

पंचगव्य और आयुर्वेद के ज्ञाता ऋषि तुल्य वैद्य राजेश कपूर से मुलाक़ात

“अब तो चाय बिना शक्कर और बिना दूध वाली पीता हूँ”, मेरे इस कथन पर लोगों की अब तक प्रशंसात्मक या विस्मयपूर्ण प्रतिक्रियाएं ही मिली हैं. पर वो गुरु ही क्या जो चोट न करे! उन्होंने छूटते ही कहा कि इस पेय में चाय पत्ती तो है… नहीं पीना चाहिए. मेरे प्रतिवाद पर उन्होंने दो […]

Read More

ये पूरा संसार ही नादात्मक है

स्वामी ध्यान विनय के साथ कोई गीत सुनना दोगुना आनंद देता है. गीत के अनुभव के साथ, गीत की ताल पर उनकी ऊंगलियों की थाप और उनका गीत से अधिक उसके संगीत के साथ एकाकार हो जाना. फिर चाहे उनके सामने टेबल हो या खाली मटका. उनकी लहराती ऊंगलियों के साथ उनके चेहरे पर आये […]

Read More

वैद्य राजेश कपूर से जानिये किस दिन क्या खाना और करना वर्जित है

आचार्य राजेश कपूर से जानिये पंद्रह दिन के चौदह नियम – 1. प्रतिपदा – कूष्मांड पेठा और कद्दू खाना वर्जित है. 2. दूज – बृहती (छोटा बैंगन) खाना वर्जित है. 3. तृतीया – परवल खाने से शत्रु वृद्धि होती है. 4. चतुर्थी- मूली खाने से धन का नाश होता है. 5. पंचमी – बेल खाना […]

Read More
error: Content is protected !!