Menu

Category: Jan (Second) 2019

VIDEO : मुझको भी तो लिफ्ट करा दे

आपने अदनान सामी का अमिताभ बच्चन पर फिल्माया यह गाना ज़रूर सुना होगा… ऐसो वैसो को दिया है, कैसो कैसो को दिया है… मुझको भी तो लिफ्ट करा दे… मैं अक्सर सोचती हूँ क्या कोई गाना जब लिखा जाता है तो वास्तव में उसका वही अर्थ होता है जिस उद्देश से लिखा गया है? यूं […]

Read More

मैं हूँ, मैं हूँ मैं हूँ डॉन…

मेरे घर के पास बड़ा सा आँगन है, चूंकि वहां आवाजाही अधिक नहीं कर पाते इसलिए वह आँगन प्राकृतिक जंगल में परिवर्तित हो चुका है. तो वहां कुत्ते बिल्ली के अलावा सांप और नेवले भी उछलकूद मचाते रहते हैं, बारिश के दिनों में तो पानी इतना भर जाता है कि मछलियाँ तक तैरने लगती हैं. […]

Read More

मानो या ना मानो : शकुन शास्त्र – 2

अंधविश्वास कहकर किसी तथ्य को उड़ा देना एक बात है और उसमें सन्निहित सत्य का अन्वेषण दूसरी बात. ग्राम के लोग जानते हैं कि जब ग्राम में महामारी आनेवाली होती है, तो गोरैया पक्षी पहले से ही ग्राम को छोड़ देती है. उसी प्रकार दूसरे पशु-पक्षियों को भी आपत्ति का पूर्वज्ञान हो जाता है. आपत्ति […]

Read More

नायिका – 14 : पहले आप… कहा ना पहले आप… नहीं पहले आप…

नायिका- हाँ, ब्लॉग पढ़ा था अगले दिन… अचम्भित रही दो दिन तक… अब भी हूँ… कोई ऐसा भी होता है!!! इस उम्र तक अपना बचपन बचाकर रख सकता है? आज मैं पूछती हूँ… WHO ARE YOU? किसी समन्दर को चंचल सरिता की तरह बहते पहली बार देख रही हूँ. नायक, विनायक, मोटू…. क्या कहूँ तुम्हें… […]

Read More

यात्रा : अहिल्या की नगरी इंदौर

शहरों में एक शहर सुना है, शहर सुना है दिल्ली, दिल्ली शहर में चांदनी नाम की लड़की मुझसे मिल ली… अब आप सोच रहे होंगे इंदौर शहर की बात शुरू करने के लिए मैं दिल्ली पर गाना क्यों गा रही हूँ क्योंकि जब भी मैं इंदौर जाती हूँ तो मैं खुद चांदनी जैसा अनुभव करने […]

Read More

बाल साहित्य : चीकू की बुद्धिमानी

नीकू चीकू चंपकवन के बहुत प्यारे खरगोश थे। दोनों एक दूसरे के लंगोटिया यार थे और एक दूसरे पर जान छिड़कते थे। पूरे चंपक वन में वो कभी किसी को अकेले नहीं दिखते थे। जहाँ भी जाते एक दूसरे के गले में हाथ डाले पंहुच जाते। नीकू थोड़ा गंभीर और बेहद सीधा सादा और कुछ […]

Read More

जीवन रहस्य : पूजा घटित होती है तो विदा हो जाती है मूर्ति

जिन लोगों ने भी मूर्ति विकसित की होगी, उन लोगों ने जीवन के परम रहस्य के प्रति सेतु बनाया था… मूर्ति-पूजा शब्द सेल्फ कंट्राडिकटरी है. इसीलिए जो पूजा करता है वह हैरान होता है कि मूर्ति कहां? और जिसने कभी पूजा नहीं की वह कहता है कि इस पत्थर को रख कर क्या होगा? इस […]

Read More
error: Content is protected !!