Menu

Category: August (Fourth) 2018

मानो या ना मानो : खजाने के रखवाले या मार्गदर्शक तीन बाबा

ये हैं सुशील जी उर्फ पिल्लू और उनके सुपुत्र रोहित. ये दोनों घरों में पुताई का काम करते हैं, जब मेरे बच्चों ने दीवारों पर जी भर कर चित्रकारी कर ली तब दादाजी ने इन दोनों को बुलाया और पूरे घर भर की पुताई करवाई. अब आप सोच रहे होंगे इन दोनों में ऐसी क्या […]

Read More

#AskAmma : कैसे होती है पुस्तक यात्रा?

इस बार पुस्तक यात्रा शुरू हुई थी तब जब सोशल मीडिया की एकरसता से तंग आकर मैंने एक हफ्ते का अवकाश लिया। और उस एक हफ्ते में कुछ नई किताबें पढ़ीं, कुछ नई किताबों का ज़िक्र सुना और कुछ नए विषयों के बारे में जाना, यू ट्यूब पर Dr BM Hegde का ढाई घंटे का […]

Read More

एक थी अमृता : और एक थी सारा

सुबह उठी तो सीने में सारा कुलबुला रही थी… किसी पर चिढ़ रही थी किस पर नहीं जानती… शायद सारा भी नहीं जानती थी. इसलिए अपनी चिढ़ या कहें कुलबुलाहट उसके लफ़्ज़ों में उतर आती. इसलिए सारा की लिखी नज़में किसी स्केल पर नहीं बनती थी. उसको नापने का पैमाना रुके हुए आंसुओं का जमावड़ा […]

Read More

हे री सखी मंगल गावो री, धरती अम्बर सजावो री, आज उतरेगी पी की सवारी

व्यवस्था चाहे आध्यात्मिक हो या सामाजिक… जब जब व्यवस्था और प्रेम में से किसी एक को चुनने का मौका आया मैंने सारी व्यवस्थाओं को ताक पर रखकर प्रेम को चुना…. ऐसा भी नहीं है कि मैंने व्यवस्था को चुनने का प्रयास नहीं किया, किया लेकिन उसमें हमेशा एक भय व्याप्त रहा… भय किसी वस्तु का […]

Read More

मंटो…

जब गुलाम थे तो आज़ादी का ख़्वाब देखते थे और अब आजाद हैं तो कौन सा ख्वाब देखें?? फिल्म ‘मंटो’ का ट्रेलर रिलीज़ हुआ है कुछ दिन पहले, जिसमें मंटो के किरदार में ‘नवाजुद्दीन सिद्दीक़ी’ हैं, फिल्म का डायरेक्शन ‘नंदिता दास’ ने किया है। ट्रेलर में ये 2 लाइन सुनकर ही समझ आता है कि […]

Read More

अनोखा रिश्ता

उन दोनों को देखकर कोई नहीं कह सकता था कि दोनों की उम्र में 8 साल का अंतर है और जिस तरह दोनों हमेशा साथ घूमते दिखाई देते थे, साथ फिल्म देखने जाते, साथ रेस्टोरेंट में खाना खाने जाते, कोई अंदाज़ा नहीं लगा पाता था कि आखिर दोनों में रिश्ता क्या है. शिक्षा जब कॉलेज […]

Read More

पुस्तक समीक्षा : ककनमठ, एक ऐतिहासिक प्रेम कहानी

ऐतिहासिक पुरातत्विक पृष्ठभूमि पर आधारित इस उपन्यास में भारत के अंधकार-पूर्ण काल-खण्ड को कथांकित किया गया है। सम्राट हर्षवर्धन के पश्चात् केंद्रीय सत्ता किसी की भी न रही, जिसकी वजह से देश में छोटे-छोटे राज्य स्थापित हो गए। इन राज्यों के बीच सामंजस्य न था। इस्लामी आक्रान्ताओं ने इस फूट का लाभ उठाया। किन्तु इस […]

Read More