Menu

Author: Making India Desk

जापान, लव इन टोक्यो : KAISEKI आध्यात्मिक अनुभव जैसा भोजन

कावागुची-को से हम अपने बहुप्रतीक्षित गंतव्य, किनोसाकी, की तरफ चल दिए. टोक्यो पहुंचकर बुलेट ट्रेन से क्योटो जाना था और वहां से किनोसाकी के लिए ट्रेन बदलनी थी. उत्सुकतावश बुलेट ट्रेन के इंजन तक घूमने चले गए. ड्राइवर ने हमें देखा और सर झुकाकर हमारा अभिवादन किया. फिर हम अपने कोच में बैठ गए. कुछ […]

Read More

एक गाँव जो पुकारता है…

परिवर्तन प्रकृति का शाश्वत नियम है, पर आवश्यक नहीं कि सभी परिवर्तन हितकारी ही हों. बदलाव की कुछ बयारें ऐसी होती हैं जो सुकून देती हैं और कुछ जीवन को दूभर बना जाती हैं. मेरा बचपन गाँव में बीता, शहर आने के बाद भी मैं गाँव से सदैव जुड़ा रहा, इसलिए न केवल शहर में […]

Read More

ये जो रुख़सार पे तिल सजा रखा है, दौलत-ए-हुस्न पे कातिल बैठा रखा है

मित्रों, सुई की नोक जितना छोटा तिल भी रुख़सार में कशिश डाल देता है। यह बात बताती है कि हमारा किरदार सूक्ष्म विशेषताओं से भी किस कदर निखर सकता है। आपका कोई एक छोटा सा गुण भी आपके व्यक्तित्व में सुगंध उत्पन्न कर सकता है। ईश्वर की कृपा दिला सकता है। श्वेताम्बर जैन तेरापंथी आचार्य […]

Read More

मनमोहना… कान्हा सुनो ना…

प्रेम, प्रतीक्षा, प्रारब्ध और पीड़ा यात्रा है… और मिलन एक चमत्कार जो सिर्फ चयनित लोगों के लिए सुरक्षित स्थान है… एक ऐसा स्थान जो इस धरती पर नहीं, ब्रह्माण्ड में किसी ऐसे स्थान पर होता है जहाँ तक पहुँचने की असुरक्षित और टूट जाने तक की यात्रा में जीते हुए भी मनुष्य के अवचेतन में […]

Read More

जय राधा माधव, जय कुंज बिहारी

पुस्तकों में लिखे शब्दों को अस्तित्व में बोने के लिए आँखों का पानी देना होता है, परन्तु जीवन की पुस्तक में लिखे जाने वाले अक्षरों को, घटनाओं को जब साक्षी भाव का पानी मिलता है, तो बीज सिर्फ जीवन के अस्तित्व में नहीं, समय की साँसों में भी पड़ जाते हैं. फिर वो समय जिस […]

Read More

नायिका – 7 : अरमान तमाम उम्र के सीने में दफ्न हैं, हम चलते-फिरते लोग मज़ारों से कम नहीं

बहरहाल तो जनाब यहाँ से शुरू होता है नायक का परिचय… ख़ुद नायक की ज़ुबानी… जी हाँ कहा ना मैंने बताना शुरू किया तो कहानी आगे नहीं बढ़ेगी… आप जितना भी नायक के बारे में जानेंगे, जितना भी उसे समझेंगे वो सब नायक के ही शब्दों में होगा…. क्योंकि नायक को ख़ुद के अलावा और […]

Read More

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो, न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए

आज आपको आँखों सुनी और कानों देखी बात बताने जा रहा हूँ। जी हाँ! आपने सही देखा। अगर सुनने का साहस हो और तपाक से प्रतिउत्तर न देने की आदत हो तभी आगे पढ़े। ये मार्मिक वृतांत एक बुजुर्ग शख़्स के बारे में है, उनका नाम ‘कृष्ण लाल शर्मा’ है। इंदौर के शीतल नगर में […]

Read More

मानो या ना मानो : ऊपरी हवा का टोना और अंतर की आस्था का जादू

आज आपबीती लिखने जा रहा हूँ। कुछ ऐसी घटनाएं जो जीवन में सबक बन कर आती हैं और आप किंकर्तव्यविमूढ हो जाते हैं कि आगे का मार्ग क्या हो? लगभग 27-28 सितम्बर से यह सब आरम्भ हुआ। मुझे यह अनुभूति होती कि मुझे बुखार रहता है.. और दिन में तीन-चार बार हथेली से स्वेद भी […]

Read More

यह सुरेंद्र मोहन पाठक के लिए खतरे की घंटी है…

मैं किशोरावस्था में तथाकथित लुगदी साहित्य का बड़ा प्रेमी था। हां, हमलोग उसे जासूसी नॉवेल कहते थे। सुरेंद्र मोहन पाठक, वेदप्रकाश शर्मा के साथ मैं तो जेम्स हेडली चेइज और रीमा भारती, केशव पंडित जैसों को भी खूब पढ़ता था। हालांकि, इनमें पाठकजी को पढ़कर हमेशा ही लगता रहा जैसे वह व्यक्ति अपनी वर्तमान स्थिति […]

Read More

#AskAmma : प्रेम में देह की भूमिका और SEX की कामना

मुझसे जुड़ें मित्रगण अलग अलग अवसरों पर अलग अलग लेख पर या इनबॉक्स में कुछ व्यक्तिगत तो कुछ सामान्य प्रश्न मुझसे पूछा करते हैं. जैसा कि मैं हमेशा कहती हूँ मैं कोई बहुत बड़ी ज्ञानी नहीं हूँ जो सबके प्रश्नों का उत्तर जानती हूँ या मुझे सब पता है, और सबसे बड़ी बात मैं जो […]

Read More
error: Content is protected !!