Menu

Author: Making India Desk

मानो या ना मानो : जब ‘शैफाली’ के लिए ओशो ने उठा लिया था चाकू!

25 अप्रेल 2010 की बात है … मैं सुबह सुबह ध्यान करने के बाद बब्बा (ओशो) और एमी माँ (अमृता प्रीतम) के बारे में अपनी डायरी में लिख रही थी – “मेरे अस्तित्व की डोर सदा इन दोनों के हाथ में रही है और आज भी है… ये दोनों मुझे मिलकर संभाले हुए हैं… क्या […]

Read More

नायिका Episode – 9 : क्यों दुखता है दाँत? ऐसे में मीठा कम बोलना चाहिए!!!!

नायिका का अगला ई-मेल – अभी अभी फिर किसी से तनातनी हो गयी…. खैर झगडालू हूँ लेकिन कुछ लोगों के लिए.. झगड़ने के बाद मन खराब हो जाता है… खराब मन लिए बैठी हूँ आपके सामने… एक साया-सा रूबरू क्या है… सुन रही हूँ अपलोड किया है आप भी सुनिए या फिर बताइये आपके पसंद […]

Read More

ओ साथी रे दिन डूबे ना : प्रणय का मनुहार गीत

जब भी तुझे आँख भर देखता हूँ एक बात भेजे में कौंधती है… क्या? ये के या तो तू बहुत बड़ी लुल्ल है या बहुत बड़ी चुड़ैल…. उत्तर प्रदेश की पृष्ठभूमि पर राजस्थान की महक वाले मिट्टी के सौंधे से घर के आँगन में दौड़ती दो देहों का यह गीत मुझे तब से बहुत आकर्षित […]

Read More

दिल चाहता है : प्रेम कथा भक्ति और ज्ञान की

परमात्मा के जन्म की कोई कहानी यदि होती तो परमात्मा के जन्म के साथ जुड़ी होती परमात्मा के प्रति आस्था और भक्ति. चूंकि परमात्मा सनातन है… इसलिए उसके साथ भक्ति भी सनातन हुई. हाँ ज्ञान ने अवश्य मनुष्य के जन्म के साथ सृष्टि में प्रवेश पाया, चाहे वो अमैथुनीय सृष्टि के जन्म की बात ही […]

Read More

Unplug With Sadhguru : क्या पिछले जन्म की बातों को हम जान सकते हैं?

मशहूर अभिनेत्री रकुल प्रीत सिंह ने सद्‌गुरु के साथ एक बेहद रोचक मुद्दे पर बातचीत की। पेश है, उस संवाद के संपादित अंश रकुल प्रीत सिंह: सद्गुरु, पिछले जन्म के बारे में आपके क्या विचार हैं? क्या यह संभव है कि हर इंसान यह जान सके कि उसका अतीत क्या था? सद्गुरु: जिन लोगों के […]

Read More

प्रेम में सेक्स की भूमिका – 2 : Sex Taboo

शारीरिक अभिव्यक्ति व्यक्ति के व्यक्तित्व की परिचायक होती हैं। हम जैसे भाव रखते हैं, शरीर वैसी ही अभिव्यक्ति करता हैं। नवरस की अभिव्यक्ति का शरीर प्रकृति प्रदत एक सशक्त माध्यम है। प्रेम भी एक भाव है, जो माता-पिता, संतान, भाई-बहन, पति/पत्नी, प्रेमी/प्रेमिका दोस्त आदि आदि रिश्तों में विभिन्न शारीरिक क्रियाओं द्वारा व्यक्त करना अत्यावश्यक है, […]

Read More

संता और बंता : एक आभा-सी संवाद

मैं चुपचाप उनको सुनती जा रही थी… या कहूं पढ़ती जा रही थी तो बेहतर होगा, आखिर टेक्स्ट मैसेज था यह… प्रेम में देह की भूमिका पर बहुत स्वच्छंद विचार लिखे थे. सामान्यत: इस तरह स्वच्छंद होकर लिखनेवालों के लिए मन में एक ऐसी ही छवि बन जाती है कि जैसा इन्होंने लिखा है वही […]

Read More

AskAmma : हाथ से कोई दुर्लभ सुयोग छूटेगा तो नहीं?

मां… बस एक सवाल का जवाब… जब दिल करेगा दीजिएगा.. पर मैं जानना चाहता हूं.. आप हैं कौन..? और मेरी नियति को लेकर इतने भरोसे से कैसे कह सकती हैं..? मां…आप इंसान ही हैं ना मां..? आप इंसान के वेश में… कोई दिव्य शक्ति तो नहीं.. मैं अनुभवहीन हूं… मेंरे सवाल को धृष्टता न समझिएगा.. […]

Read More

नायिका – 8 : कहीं इसे फ्लर्ट करना तो नहीं कहते हैं ना?

सूत्रधार – नायिका अपनी तस्वीर कुछ देर के लिए ब्लॉग पर लगाती है और नायक को मेल से खबर कर देती है कि देख लें कहीं यही वो चेहरा तो नहीं था जो उसे सपने में दिखाई दिया था. नायिका की तस्वीर देखने के बाद नायक जवाब देता है- चाहें तो अभी हटा दीजिये. पुण्यतिथि […]

Read More

मिलन : छठा तत्व

काया विज्ञान कहता है: यह काया पंचतत्वों से मिलकर बनी है- पृथ्वी, जल, वायु, अग्नि और आकाश. लेकिन इन पाँचों तत्वों के बीच इतना गहन आकर्षण क्यों है कि इन्हें मिलना पड़ा? कितने तो भिन्न हैं ये… कितने विपरीत… कहाँ ठहरा हुआ-सा पृथ्वी तत्व, तरंगित होता जल तत्व, प्रवाहमान वायु तत्व, और कहाँ अगोचर आकाश […]

Read More
error: Content is protected !!