अंगरेज़ का रंगरेज़ हो जाना

अंगरेज़…. कहने लगा मैं आप पर एक कहानी लिखूंगा… मेरी कहानी का पात्र… मेरी ही कहानी में प्रकट होकर कह रहा मैं उस रचयिता पर कहानी लिखूंगा जिसने मुझे रचा है… दो कहानियां एक दूसरे में उलझ रही थीं… जैसे कल्पवृक्ष पर चढ़ती दो बेलें… अपनी अपनी कामनाएं दर्ज़ करती हुईं… तुम्हारी जुल्फों के पेंच … Continue reading अंगरेज़ का रंगरेज़ हो जाना