Menu

Day: February 9, 2019

स्वस्थ जीवन, उन्नत चेतना : वज़न और बीमारियों पर नियंत्रण की महत्वपूर्ण जानकारी

यह वीडियो ख़ास उन लोगों के लिए हैं जो खुद या उनके कोई परिचित किसी लम्बी बीमारी से ग्रसित हैं. बाकी यह वीडियो सबके लिए ही उपयोगी है, उनके लिए भी जो जीने के लिए खाते हैं और उनके लिए भी जो यह कहते हैं एक ही तो ज़िंदगी मिली है खाओ पियो ऐश करो […]

Read More

मानो या न मानो : रहस्यों को हृदय में समेटे इंतज़ार करो अपनी पारी का

मेरा मानना है कि जादू टोना, गंडा ताबीज, नज़र लगना, व्रत करके भूखे मरना, ढोंगी बाबाओं को गुरू बनाना और तंत्र मन्त्र सब ढकोसला है लेकिन मैं मानता हूँ न? तो क्या ये जरूरी है कि मैं जो मानता हूँ सब सही है? मैं सब जानता हूँ या उतना ही जितना मेरी छोटी सी बुद्धि […]

Read More

नायिका-18 : मैं मानता नहीं अगले या पिछले जन्म को, ‘जानता’ हूँ!

विनायक – तीनों links पर गया, दो पर comments हैं, इच्छा हो तो देखें, एक अमृत-सागर को पढ़ लिया सागर मंथन कर अमृत की खोज करने के लिये. न, अमर होने की चाह बिलकुल भी नहीं, जल की कोख से तो लिखवा लिया. अब देखते हैं, “धरती की कोख से” किस दिन लिखा पाती हैं. […]

Read More

हरक्यूलिस

“निर्दयी, तुम मातृत्व का निर्वहन न कर पायीं पर मैं… मैं अपने पुत्र होने के दायित्वों को अवश्य पूर्ण करूँगा, निश्चिंत रहो!! कहते कहते उनकी आंखों से आंसू टपक ही पडे. उपस्थित सारे छात्र भी भाव-विव्हल हो गए. मैं समझ ही नहीं पा रहा था कुछ ना ही कोई और समझ पाया होगा. वे लगभग […]

Read More

इतिहास के पन्नों से : उमर ख़य्याम, एक आशिक़ की कहानी ऐसी भी!

ये ग्यारहवीं सदी की बात है। उनदिनों इस्लाम पर “अब्बासी” वंश की ख़लीफ़ाई थी। एक रोज़, ख़लीफ़ा के दरबार की चर्चाओं में सामने आया, हुज़ूर, एक नामुराद ने अपनी आशिक़ी में ऐसी रुबाई लिख दी है, जिसमें उसकी महबूबा के गाल के तिल पर आपका समरकंद-ओ-बुख़ार भी कुर्बान कर दिया गया है! ख़लीफ़ा ने विषैले […]

Read More

नाग लोक का रहस्य – 3 : नागराज वासुकी की बहन मनसा देवी और उनकी मानस पुत्रियाँ

कहते हैं हमारी जीवन यात्रा के साथ साथ हमारी आध्यात्मिक यात्रा को नैपथ्य से कुछ लोग संचालित कर रहे होते हैं, जो उचित समय से पहले हमारे सामने अपनी उपस्थिति का कोई संकेत नहीं देते, ये उचित समय भी वही तय करते हैं और हमारी यात्राएं भी. ऐसे में ब्रह्माण्ड के स्वर्णिम नियमों को सुचारू […]

Read More

Masala-E-Magic : जब भगवान को बेचने पड़ते हैं पापड़

आज फिर भगवान मेरे घर पापड़ बेचने आए… पिछली बार आपके पापड़ का टेस्ट उतना अच्छा नहीं था मैंने साइकिल पर पापड़ के थैले लटकाए खड़े, लटके मुंह वाले भगवान से कहा… तो उन्होंने कहा बेटा दे देना वापस पापड़ का वो पैकेट, बदले में ये दूसरा ले लो… ये वाले बहुत अच्छे हैं सच […]

Read More
error: Content is protected !!