Menu

Day: December 1, 2018

AskAmma : हाथ से कोई दुर्लभ सुयोग छूटेगा तो नहीं?

मां… बस एक सवाल का जवाब… जब दिल करेगा दीजिएगा.. पर मैं जानना चाहता हूं.. आप हैं कौन..? और मेरी नियति को लेकर इतने भरोसे से कैसे कह सकती हैं..? मां…आप इंसान ही हैं ना मां..? आप इंसान के वेश में… कोई दिव्य शक्ति तो नहीं.. मैं अनुभवहीन हूं… मेंरे सवाल को धृष्टता न समझिएगा.. […]

Read More

नायिका – 8 : कहीं इसे फ्लर्ट करना तो नहीं कहते हैं ना?

सूत्रधार – नायिका अपनी तस्वीर कुछ देर के लिए ब्लॉग पर लगाती है और नायक को मेल से खबर कर देती है कि देख लें कहीं यही वो चेहरा तो नहीं था जो उसे सपने में दिखाई दिया था. नायिका की तस्वीर देखने के बाद नायक जवाब देता है- चाहें तो अभी हटा दीजिये. पुण्यतिथि […]

Read More

मिलन : छठा तत्व

काया विज्ञान कहता है: यह काया पंचतत्वों से मिलकर बनी है- पृथ्वी, जल, वायु, अग्नि और आकाश. लेकिन इन पाँचों तत्वों के बीच इतना गहन आकर्षण क्यों है कि इन्हें मिलना पड़ा? कितने तो भिन्न हैं ये… कितने विपरीत… कहाँ ठहरा हुआ-सा पृथ्वी तत्व, तरंगित होता जल तत्व, प्रवाहमान वायु तत्व, और कहाँ अगोचर आकाश […]

Read More

जापान, लव इन टोक्यो : KAISEKI आध्यात्मिक अनुभव जैसा भोजन

कावागुची-को से हम अपने बहुप्रतीक्षित गंतव्य, किनोसाकी, की तरफ चल दिए. टोक्यो पहुंचकर बुलेट ट्रेन से क्योटो जाना था और वहां से किनोसाकी के लिए ट्रेन बदलनी थी. उत्सुकतावश बुलेट ट्रेन के इंजन तक घूमने चले गए. ड्राइवर ने हमें देखा और सर झुकाकर हमारा अभिवादन किया. फिर हम अपने कोच में बैठ गए. कुछ […]

Read More

एक गाँव जो पुकारता है…

परिवर्तन प्रकृति का शाश्वत नियम है, पर आवश्यक नहीं कि सभी परिवर्तन हितकारी ही हों. बदलाव की कुछ बयारें ऐसी होती हैं जो सुकून देती हैं और कुछ जीवन को दूभर बना जाती हैं. मेरा बचपन गाँव में बीता, शहर आने के बाद भी मैं गाँव से सदैव जुड़ा रहा, इसलिए न केवल शहर में […]

Read More

ये जो रुख़सार पे तिल सजा रखा है, दौलत-ए-हुस्न पे कातिल बैठा रखा है

मित्रों, सुई की नोक जितना छोटा तिल भी रुख़सार में कशिश डाल देता है। यह बात बताती है कि हमारा किरदार सूक्ष्म विशेषताओं से भी किस कदर निखर सकता है। आपका कोई एक छोटा सा गुण भी आपके व्यक्तित्व में सुगंध उत्पन्न कर सकता है। ईश्वर की कृपा दिला सकता है। श्वेताम्बर जैन तेरापंथी आचार्य […]

Read More

मनमोहना… कान्हा सुनो ना…

प्रेम, प्रतीक्षा, प्रारब्ध और पीड़ा यात्रा है… और मिलन एक चमत्कार जो सिर्फ चयनित लोगों के लिए सुरक्षित स्थान है… एक ऐसा स्थान जो इस धरती पर नहीं, ब्रह्माण्ड में किसी ऐसे स्थान पर होता है जहाँ तक पहुँचने की असुरक्षित और टूट जाने तक की यात्रा में जीते हुए भी मनुष्य के अवचेतन में […]

Read More
error: Content is protected !!