Menu

Month: September 2018

आभासी संवाद : आस्तिक और नास्तिक के बीच

जब जब नास्तिकता और आस्तिकता के बीच बहस होगी, जीत हमेशा नास्तिकता की ही होगी क्योंकि नास्तिक व्यक्ति अपनी नास्तिकता को लेकर सबसे बड़ा आस्तिक निकलेगा. और आस्तिक व्यक्ति हमेशा उसकी नास्तिकता पर भी आस्था रखेगा, क्योंकि बिना आस्था के तो आस्तिक भी आस्तिक कहाँ रह जाएगा. वो स्वीकार करेगा नास्तिक को उसकी पूरी नास्तिकता […]

Read More

जीवन-लीला : कृष्ण तत्व का जन्मोत्सव

नायक से मिलने से पहले नायिका जीती थी मध्य मार्ग में… थोड़ा-थोड़ा, थोड़ा-सा प्यार, थोड़ी-सी नफ़रत, थोड़ी-सा जीवन, थोड़ी-सी मृत्यु… और आज? नायिका – आज अपनी परछाई बनाकर तुम मुझे वहां तक ले गए हो जिसे अति कहते हैं… extreme में जीना, खतरनाक ढंग से जीना… जीने का और कोई तरीका ही नहीं होता जानती […]

Read More

फेसबुक अड्डा : कविताएं गाती तस्वीरें

कुछ कविताएं ज़हन की उन तस्वीरों पर बनती हैं जो हमारे नितांत एकाकीपन की साथी होती हैं, जिनका आपके अपने सिवा कोई राज़दार नहीं होता. कुछ कविताएं उन तस्वीरों पर बनती हैं जिनको देखते से ही लगे किसी ने आपके उस एकाकीपन को सार्वजनिक कर दिया और शब्द अचानक आई बारिश की तरह उन पर […]

Read More

बुज़ुर्गों का ध्यान रखने में भारत सबसे अंतिम नंबर पर!

ग्लोबल रिटायरमेंट इंडेक्स में 34 देशों में किये गये एक सर्वे में हमारा देश सबसे आखिरी नम्बर पर यानि कि 34वें नम्बर पर आया है। सेवानिवृत्त होने के बाद लोगों की दशा खराब हो जाती है। बुज़ुर्गों की तरफ जो ध्यान देना चाहिए वो नहीं दिया जाता। सरकार और परिवार दोनों को इस मुद्दे पर […]

Read More

हरिशंकर परसाई के व्यंग्य : सच्चाई, सहजता और हास्य का संगम

आम इंसान की ज़िंदगी, ज़िंदगी की विषमताएँ, विषमताओं में संतोष और संतोष में छिपी पीड़ा! इन भावों को परसाई की लेखनी ने उत्कृष्ट रूप से गढ़ा है। हरिशंकर परसाई की भाषा में चुटीले व्यंग्य की प्रधानता है। उनके एक -एक शब्द धारदार है। जो सामाजिक व्यवस्था पर चोट करते प्रतीत होते हैं। आज की सामाजिक […]

Read More
error: Content is protected !!