Menu

Month: May 2018

Power Of Name : पुकारो, मुझे नाम लेकर पुकारो

कुछ सालों पहले यह विज्ञापन टीवी पर अक्सर देखने में आता था और उसका यह डायलॉग बहुत प्रसिद्ध भी हो गया था – क्यों सुनील बाबू, नया घर?? इस विज्ञापन में ऐसा क्या खास था, जो सबका ध्यान आकर्षित कर गया? यदि इस विज्ञापन में इस संवाद की जगह सिर्फ यह होता, क्यों भई नया […]

Read More

सद्गुरु से जानिये थाइरॉइड समस्या और उसका समाधान

आजकल थाइरॉइड की समस्या आम होती जा रही है. सद्‌गुरु हमें इसका कारण और इसे ठीक करने के तरीके बता रहे हैं. देखते हैं ये हिंदी में डब ये वीडियो. प्रश्न : सद्‌गुरु इन दिनों बहुत से लोगों को थाइरॉइड प्रोब्लम्स हो रही हैं – हाइपो-थाइरॉइड या हाइपर-थाइरॉइड. आयोडीन वाला नमक खाने के बावजूद थाइरॉइड […]

Read More

मोशन से इमोशन तक : पेट साफ होगा तभी तो वज़न के साथ इंसाफ़ होगा

पिछले कई दिनों से डॉ विपिन गुप्ता के सेहतवन के वीडियोज़ देख रही हूँ. एक-एक बात बहुत गौर करने लायक होती है. मोशन से इमोशन तक के अपने वीडियो में बहुत अच्छी जानकारी दी है. चूंकि आपके शरीर का ही नहीं आपकी चेतना का सम्बन्ध भी आपके पेट से होता है इसलिए किसी भी तरह […]

Read More

5 Minutes Craft : छोटे परिवर्तन जो लाते हैं बड़े बदलाव

मैंने अक्सर गृहणियों को रोज़-रोज़ एक ही तरह के काम से उकताते हुए देखा है. एक ही ढर्रे पर काम करते हुए वो उसकी इतनी अभ्यस्त हो जाती है कि उनको नींद में से उठाकर भी कुछ पूछ लो तो किसी भी वस्तु के बारे में बिलकुल सही-सही जानकारी दे देंगी. लेकिन यह एकरसता उनके […]

Read More

हम तो ऐसे हैं भैया

ज्ञान और शिक्षा में अंतर उतना ही है जैसे आत्मा और शरीर में है. आत्मा अपने पूर्व जन्मों से कुछ ज्ञान लेकर आती है जैसे एक बना बनाया घर हो और जन्म के बाद शिक्षा का अर्थ कुछ यूं है जैसे उस घर को सुन्दर बनाने के लिए सजावट का सामान. तो आपसे मिलते ही […]

Read More

कालबेलिया : नागलोक की परियों का धरती पर नृत्य

काला रंग मुझे हमेशा से आकर्षित करता है. कहते हैं काला रंग काला इसलिए है क्योंकि वो सारे रंगों को सोख लेता है, परावर्तित नहीं करता… तो इन नागलोक की परियों ने भी जैसे जीवन के सारे रंग सोख लिए हैं, और फिर इनको लिए जब गोल घूमती हैं तो लगता है जैसे इनसे निकलकर […]

Read More

गाड़ी बुला रही है, सीटी बजा रही है…

क्या आपने कभी ऐसा सफर किया है जिसमें मंज़िल से बहुत अधिक मतलब नहीं होता? जहाँ सफर करने का उद्देश्य सिर्फ सफर ही हो? अगर किया हो या कभी करेंगे तो आप देखेंगे कि जब किसी मंज़िल पर जाना हो तो हम तीव्रतम साधन चुनते हैं, जैसे हवाई जहाज़, ट्रेन, कार/बस, टेम्पो. पर जब कोई […]

Read More

वो दुनिया मेरे बाबुल का घर … ‘ये’ दुनिया ससुराल…

पिछले हफ्ते लगातार एक सवाल मुझसे अलग-अलग लोगों द्वारा पूछा गया, मेकिंग इंडिया का उद्देश्य क्या है? सबको अलग-अलग जवाब दिए हैं, राष्ट्रवादियों को राष्ट्र सेवा, आध्यात्मिक लोगों को आध्यात्मिक सन्देश, जीवन को भरपूर जीने वालों को जीवन के सारे रंग उड़ेलते हुए सकारात्मक उद्देश्य…. अलग-अलग लोगों के लिए मेकिंग इंडिया की उपयोगिता अलग-अलग है. […]

Read More

सामाजिक व्यवस्था और विवाहेतर सम्बन्ध, ब्रह्माण्डीय व्यवस्था और जीवनोत्तर यात्रा

विवाह को लेकर हमारे यहाँ जहां सात जन्मों की कसमें खाई जाती हैं, उसके पीछे क्या भाव होते हैं? आज के आधुनिक समाज में क्या रिश्ते वास्तव में इतने टिकाऊ और विश्वासपूर्ण रह गए हैं? यदि वास्तव में ऐसा है तो विवाहेतर सबंधों की अचानक से बाढ़ क्यों आ गयी है? या फिर सोशल मीडिया […]

Read More

प्रेम : कपूर टिकिया सा, जो ख़ुद अपनी गन्ध बिसरा के स्वयं बिसर जाए

प्रेम कोई कथ्य नहीं कोई विचार नहीं जिसे साझा किया जाए शब्दों में कभी कभी लगता है कि प्रेम अहसास भी नहीं. क्योंकि कैसे ही इसे महसूस करना शुरू करो यह खत्म होना शुरू हो जाता है. इसलिये इसे महसूस भी मत करना चाहिए. बस जी लेना चाहिए. प्रेम कोई फूल भी नहीं कि सदा […]

Read More
error: Content is protected !!